बाहर रखी चीनी को नुकसान होने की आशंका को लेकर मिल प्रबंधन चिंतित

1250

अफजलगढ़: उत्तर प्रदेश में 2019 -2020 का पेराई सत्र अंतिम चरण में पहुंच चूका है, लॉकडाउन के बावजूद यूपी की चीनी मिलों ने रिकार्ड चीनी उत्पादन किया है। द्वारिकेश चीनी मिल ने भी इस सत्र में निर्धारित लक्ष्य से अधिक गन्ना पेराई की। शनिवार को गन्ना पेराई करके सत्र समाप्त कर दिया गया।

अमर उजल में प्रकाशित खबर के मुताबिक, मिल के मुख्य महाप्रबंधक एसपी सिंह ने बताया कि, इस सत्र में 1 करोड़ 16 लाख क्विंटल गन्ना पेराई का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। वहीं 1 करोड़ 19 लाख 46 हजार क्विंटल गन्ने की पेराई करके शनिवार को मिल का संचालन बंद कर दिया गया। इस सीजन में चीनी मिल ने रिकवरी में भी बढ़ोतरी हासिल की है। इस सीजन चीनी रिकवरी 12.40 प्रतिशत रही। इस सीजन काफी अधिक चीनी यानी चौदह लाख पचहत्तर हजार आठ सौ पचास क्विंटल चीनी का उत्पादन किया गया।

लॉकडाउन के चलते चीनी बिक्री ठप है, जिसके कारण कई चीनी मिलों के गोदामों में चीनी का स्टॉक बढ़ता ही जा रहा है। उन्होंने कहा की वेयर हाउस फुल हो जाने के कारण भारी मात्रा चीनी बाहर रखनी पड़ रही है। वहीं मौसम खराब होने की आशंका के चलते बाहर रखी चीनी का नुकसान होने की आशंका को लेकर मिल प्रबंधन चिंतित है।

चीनी का नुकसान होने की आशंका यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here