मिलर्स को अब ‘रिटेलिंग’ करना चाहिए : चीनी आयुक्‍त शेखर गायकवाड

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

पुणे : चीनी मंडी

अधिशेष चीनी की समस्या से परेशान चीनी मिलों के सामने अब बढाए गये चीनी कोटा की समस्या पैदा हुई है। मार्च के लिए मासिक चीनी रिलीज कोटा में 16.67% से 24.5 लाख मेट्रिक टन तक की वृद्धि हुई है, जिससे व्यापारियों और मिलरों को चीनी स्टॉक बेचने में दिक्‍कत हो सकती है। निर्यातकों को अभी भी अनुमान है कि, नकदी हालत में सुधार करने के लिए मिलर्स चीनी का निर्यात जरूर करेंगे।

चीनी उद्योग के विशेषज्ञों के अनुसार, सरकार द्वारा हाल ही में ‘एमएसपी’ की बढ़ोतरी पर उठाया गया कदम इतना कारगर साबीत नहीं हुआ है। खराब मांग के चलते जहाँ मिलों मे चीनी स्टॉक बढता ही जा रहा है, दुसरी तरफ बैंकों को भुगतान किए जाने वाले ब्याज भी बढ रहा हैं और हर गुजरते दिनों के साथ गन्ने का बकाया भी तेजी से बढ़ रहा है।

महाराष्ट्र के चीनी आयुक्‍त शेखर गायकवाड़ ने ChiniMandi.com  के साथ बातचीत में कहा की, बाजार में चीनी की कोई खास मांग नहीं देखी जा रही है, जबकि मिलर्स व्यापारियों को अपने चीनी स्टॉक बेच रहे हैं, मिलरों को अब खुदरा बिक्री के लिए भी आगे आना चाहिए, जिसके कारण वे भी अच्छी कमाई करेंगे और तो और व्यापारियों से जो पैसा मिलता है उसकी तुलना में बेहतर किमत मिलने की भी संभावना है। यह कदम मिलरों को आर्थीक संकट से उबरने में बहुत आसान साबित हो सकता है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here