मिलों ने बकाया भुगतान किया: विल्लुपुरम के गन्ना किसानों का पोंगल होगा मीठा

69

विल्लुपुरम: निजी मिलों ने हाल ही में सभी लंबित उचित लाभकारी मूल्य (एफआरपी) का भुगतान करने के बाद, विल्लुपुरम के गन्ना किसान पिछले पांच वर्षों का सबसे खुशहाल पोंगल मनाने जा रहे हैं। पिछले पांच वर्षों में, मिलों द्वारा एफआरपी का भुगतान न करने के कारण क्षेत्र के कम से कम 10,000 किसान प्रभावित हुए और इसके कारण 2020 के वर्ष में कुल गन्ना किसानों में से 50 प्रतिशत ने फसलों को स्थानांतरित कर दिया है। विल्लुपुरम के किसान गन्ने की खेती से धान, दलहन, मटर, फूल और बाजरा की खेती में स्थानांतरित हो गए।

मिलों द्वारा बकाया भुगतान में देरी के कारण किसानों को परिवार चलाना बेहद मुश्किल हुआ था और स्थानीय सूदखोरी भी बढ़ रही थी। लेकिन अब एफआरपी का भुगतान होने से किसान तनाव मुक्त पोंगल मनाने के लिए तैयार है।

Newindianexpress.com में प्रकाशित खबर के मुताबिक, निजी मिलों के सूत्रों ने किसानों को एफआरपी के निपटान में देरी के लिए राजस्व में गिरावट और लॉकडाउन को जिम्मेदार ठहराया। अधिकारियों ने कहा कि, विल्लुपुरम और चेन्नई में चीनी आयोग में किसानों द्वारा कई विरोध प्रदर्शनों के बाद, निजी मिलों ने दिसंबर में किसानों को भुगतान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here