मंत्री सुरेश राणा ने गन्ना किसानों एवं चीनी मिल कार्मिकों को कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाने के लिए जारी दिशा-निर्देशों के अनुपालन की समीक्षा की

323

लखनऊ: मा. मंत्री चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास श्री सुरेश राणा द्वारा कोविड-19 महामारी से गन्ना कृषकों, विभागीय कार्मिकों एवं चीनी मिल कार्मिकों को बचाने एवं गन्ना मूल्य भुगतान के सम्बन्ध में अपर मुख्य सचिव, चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग श्री संजय आर. भूसरेड्डी के साथ मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से आज दिनांक 27.04.2021 को एक महत्वपूर्ण बैठक की गई।

समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव, श्री संजय आर. भूसरेड्डी द्वारा बताया गया कि प्रदेश में इस समय लगभग 50 चीनी मिलों द्वारा गन्ना पेराई कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि समस्त परिक्षेत्रीय उप गन्ना आयुक्तों, जिला गन्ना अधिकारियों एवं चीनी मिलों को अवशेष पेराई सत्र 2020-21 के सुरक्षित समापन एवं पेराई सत्र 2021-22 के लिए गन्ना सर्वेक्षण, सट्टा प्रदर्शन, कैलेन्डिरिंग, पर्ची निर्गमन आदि की व्यवस्था को सुरक्षित एवं सफलतापूर्वक सम्पन्न कराये जाने हेतु कोविड-19 से बचाव के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश दिनांक 05.04.2021 को जारी किये गये हैं। इन दिशा-निर्देशों में शासन तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी कोविड प्रोटोकाल का पूर्ण पालन करने के साथ-साथ मिल-गेट एवं क्रय केन्द्रों पर समुचित सैनेटाईजर एवं साबुन-पानी का प्रबन्ध करने तथा मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करने हेतु निर्देशित किया गया है। इसके अतिरिक्त कर्मचारियों की थर्मल स्कैनिंग कराने तथा समय-समय पर स्वास्थ्य परीक्षण कराने और कोविड-19 के लक्षण पाये जाने पर उनका टेस्ट कराकर उन्हे आइसोलेट कर समुचित इलाज कराने हेतु भी निर्देशित किया गया है। कार्य स्थल, चीनी मिल गेट एवं क्रयकेन्द्रों पर भीड़ इकट्ठा न होने देने और प्रयोग में लाये जाने वाली मशीनरी आदि को सेनेटाइज करने के सम्बन्ध में भी विस्तृत दिशा-निर्देश दिये गये हैं।
उक्त के साथ-साथ विभागीय अधिकारियों एवं चीनी मिलों को उनके नजदीक के कस्बों एवं शहरों के सार्वजनिक स्थानों, कार्यालयों यथा-कलेक्ट्रेट, तहसील, ब्लाक, पी.एच.सी. जिला-अस्पताल, एवं पुलिस स्टेशन आदि को भी सैनेटाइज कराने हेतु दिशा-निर्देश प्रदान किये जा चुके हैं।

मा. मंत्री द्वारा उक्त दिशा-निर्देशों पर अनुपालन की आज समीक्षा की गई तथा सभी वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि वे जारी दिशा-निर्देशों का अनुपालन प्रत्येक दशा में सुनिश्चित करायें, जिससे गन्ना कृषकों एवं कार्मिकों को कोरोना महामारी से बचाया जा सके। मा. मंत्री द्वारा तौल हेतु आने वाले गन्ना कृषकों के लिए पर्याप्त मात्रा में सेनेटाइजर, साबुन-पानी तथा आवश्यकतानुसार मास्क भी उपलब्ध कराने हेतु निर्देशित किया गया।

मा. मंत्री, चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास उ.प्र. द्वारा गन्ना मूल्य भुगतान की भी समीक्षा की गयी, जिस पर अपर मुख्य सचिव, श्री संजय आर. भूसरेड्डी द्वारा बताया गया कि, गत् पेराई सत्र-2019-20 के देय गन्ना मूल्य रू.35,898.85 करोड का सम्पूर्ण भुगतान गन्ना कृषकों को कराया जा चुका है। वर्तमान पेराई सत्र 2020-21 के भी लगभग 61 प्रतिशत गन्ना मूल्य का भुगतान कृषकों को किया जा चुका है। बैठक के दौरान मा. मंत्री द्वारा गन्ना मूल्य भुगतान में और तेजी लाने हेतु अधिकारियों को निर्देशित किया गया।

अपर मुख्य सचिव, श्री संजय आर. भूसरेड्डी द्वारा मा. मंत्री का जी का आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here