विधायक ने गन्ना बकाया भुगतान मुद्दा विधानसभा में उठाने की चेतावनी दी

1897

गोरखपुर : कप्तानगंज चीनी मिल के गन्ना बकाया भुगतान से राजनीती गरमा रही है, पीडब्लूडी डाक बंगला में विधायक रामानंद बौद्ध ने डीसीओ और चीनी मिल के एजीएम के साथ बैठक की और उन्होंने इस मुद्दे को विधानसभा में उठाने की चेतावनी दी है। अमर उजाला में प्रकाशित कहबर के मुताबिक विधायक बौद्ध ने कहा कि, कप्तानगंज चीनी मिल पर किसानों का सत्र 2019-20 का 64 करोड़ब काया है।उन्होंने कहा की, बकाया भुगतान में देरी से किसानों को आर्थिक कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।

डीसीओ वेद प्रकाश सिंह ने कहा कि चीनी, शीरा और बगास की बिक्री से मिली रकम का 85 प्रतिशत किसानों को और 15 प्रतिशत से मिल का मेंटेनेंस किया जाता है। किसानों का कुल बकाया 64 करोड़ रुपये है, जबकि चीनी मिल के पास सभी मैटेरियल मात्र 34 करोड़ का ही है। चीनी मिल को 30 करोड़ रुपये की व्यवस्था करनी होगी।

एजीएम विनोद कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि अतिरिक्त 30 करोड़ रुपये की व्यवस्था अभी संभव नहीं है।

आपको बता दे, राज्य सरकार का कहना है की वे गन्ना बकाया भुगतान को लेकर काफी गंभीर है, जिसके कारण राज्य के कई मिलों द्वारा भुगतान भी किया जा रहा है।

सरकार के मुताबिक प्रदेश के मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व में वर्तमान सरकार के गठन के उपरान्त मंत्री चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास सुरेश राणा के दिशा-निर्देशों में प्रदेष के गन्ना किसानों के भुगतान को प्राथमिकता पर रखते हुये 2017-2020 के मध्य अब तक गन्ना किसानों को रू.1,00,000 करोड़ से अधिक का भुगतान कराया गया है।

कोरोना संकट के कारण चीनी मिलें भी परेशान है। कोरोना के कारण चीनी बिक्री ठप है, जिसके चलते वे राजस्व की समस्या से जूझ रहे है और गन्ना बाकय भी चुकाने में विफल हुए है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here