इस साल समय से आएगा मॉनसून; केरल में एक जून को आगमन की संभावना

78

नई दिल्ली : मौसम विभाग के अनुसार, देश में इस साल औसत मॉनसून वर्षा होने की उम्मीद है, जिससे उच्च कृषि उत्पादन की उम्मीद बढ़ गई, जो कोरोना महामारी से लड़खड़ाई हुई अर्थव्यवस्था के लिए बूस्टर डोस का काम करेगी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शीर्ष सरकारी अधिकारी ने कहा कि, मानसून 1 जून के आसपास दक्षिणी तट के माध्यम से भारत में प्रवेश करने की संभावना है।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव माधवन राजीवन ने एक ट्वीट में कहा, “मॉनसून 2021 अपडेट : भारत मौसम विज्ञान विभाग के विस्तृत पूर्वानुमान के अनुसार केरल में एक जून के करीब मॉनसून का आगमन होगा. यह आरंभिक पूर्वानुमान है. भारत मौसम विज्ञान विभाग का आधिकारिक मॉनसून पूर्वानुमान 15 मई को और बारिश से संबंधी पूर्वानुमान 31 मई को जारी होगा”।

देश के लगभग आधे खेत, जिसमें सिंचाई का कोई साधन नहीं है,जैसे की चावल, मक्का, गन्ना, कपास और सोयाबीन जैसी फसल उगाने के लिए किसान वार्षिक जून-सितंबर की बारिश पर निर्भर है। पिछले साल के मानसून की बारिश ने मिट्टी की नमी को फिर से भर दिया और उच्च फसल की पैदावार हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here