राष्ट्रीय चीनी संस्थान को ‘एक्टिवेटेड बायो चार’ के उत्पादन में मिली सफलता

160

कानपुर : राष्ट्रीय चीनी संस्थान (कानपुर) ने चीनी मिलों द्वारा अतिरिक्त गन्ने की खोई से ‘एक्टिवेटेड बायो-चार’ का उत्पादन करने में सफलता हासिल की है। वर्तमान में गन्ने की पेराई के बाद प्राप्त होने वाले रेशेदार पदार्थ बगास का उपयोग ज्यादातर ईंधन के रूप में किया जाता है। राष्ट्रीय चीनी संस्थान चीनी मिलों के राजस्व को बढ़ाने के लिए विभिन्न मूल्य वर्धित उत्पादों को विकसित करने पर काम कर रहा है और ‘एक्टिवेटेड बायो चार’ श्रृंखला का एक और ऐसा ही उत्पाद है।

वर्तमान में, चीनी रिफाइनरियां कम रंग मूल्य की बेहतर गुणवत्ता वाली चीनी का उत्पादन करने के लिए अपने पिघले हुए चीनी को डी-कलराइज करने के लिए ‘आयन एक्सचेंज रेजिन’ का उपयोग करती हैं। हालांकि, इस तरह के रेजिन के उपयोग से उत्पादन की लागत बढ़ जाती है, इसके अलावा पर्याप्त मात्रा में अपशिष्ट उत्पन्न होता है। राष्ट्रीय चीनी संस्थान के निदेशक, प्रोफेसर नरेंद्र मोहन ने सूचित किया कि, उत्पाद विकास और प्रयोगशाला पैमाने के परीक्षणों का उद्देश्य ‘आयन एक्सचेंज रेजिन’ को खोई से उत्पादित ‘सक्रिय बायो-चार’ के साथ बदलने की संभावनाओं का आकलन करना था।

‘सक्रिय जैव-चार’ खोई को सुखाकर, पीसकर और वांछित कण आकार में स्क्रीनिंग करके तैयार किया गया है। खोई से ‘एक्टिवेटेड बायो-चार’ की करीब 10 फीसदी रिकवरी हो चुकी है। इस प्रकार, खोई की कीमत रुपये के रूप में देख रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here