NCLAT का थिरु अरोरन शुगर्स के दिवालिया कार्यवाही में हस्तक्षेप से इनकार

223

नई दिल्ली : चीनी मंडी

नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (NCLAT) ने थिरु अरूरन शुगर्स मामले के खिलाफ चल रही दिवालिया कार्यवाही में हस्तक्षेप करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया की, कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स (CoC) को पहले ही दिवाला एवं दिवालियापन संहिता (IBC) के तहत स्थापित कर दिया गया है। हालांकि, अपीलीय न्यायाधिकरण ने कहा कि, कंपनी के प्रमोटर आर वी त्यागराजन वित्तीय लेनदारों से कंपनी के खिलाफ के दावों का निपटान कर सकते हैं, मुख्य रूप से भारतीय स्टेट बैंक के दिवालिया और दिवालियापन संहिता के तहत, बशर्ते कि वह उधारदाताओं द्वारा 90 प्रतिशत वोटों के साथ अनुमोदित हो जाए।

अपीलकर्ता न्यायाधिकरण को प्रमोटर की ओर से पेश वकील द्वारा सूचित किया गया था कि वह, अपने वित्तीय लेनदार भारतीय स्टेट बैंक के साथ मामले को निपटाने के लिए तैयार है, हालांकि, दूसरे पक्ष ने सूचित किया कि दावों पर कार्रवाई शुरू हो चुकी है और मामला पहले से ही CoC द्वारा देखा गया था । NCLAT ने कंपनी के रिज़ॉल्यूशन प्रोफेशनल (RP) को निर्देश दिया है कि, अगर प्रमोटर द्वारा ऐसा कोई प्रस्ताव दिया जाता है और उसे IBC की धारा 12 A के तहत उधारदाताओं द्वारा 90 प्रतिशत वोटों के साथ मंजूरी मिल जाती है, तो वह नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) के समक्ष दिवालिया कार्यवाही को वापस लेने के लिए याचिका दायर कर सकते है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here