“ब्राजील चीनी उद्योग के मॉडल को अपनाने की जरूरत”

480

धारवाड़: भारत ने चीनी उत्पादन में ब्राजील को पीछे छोड़कर नंबर एक का तमगा हासिल तो किया है, लेकिन इस तमगे के साथ साथ कई समस्यायें भी खड़ी हो गई है। इन्हीं समस्याओं के कारण देश का चीनी उद्योग लडखडा रहा है और उसे बार बार सरकार के सब्सिडी के बूस्टर डोस पे निर्भर होना पड़ रहा है।अब चीनी उद्योग के विशेषज्ञों मानना है की, अगर हमें इस समस्याओं से हमेशा के लिए छुटकारा पाना है, तो ब्राज़ील चीनी उद्योग मॉडल को अपनाने से परहेज नही करना चाहिए।

भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान (IISR) और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) की तीन दिवसीय वार्षिक सामूहिक बैठक में धारवाड़ यूएएस परिसर में किसान ज्ञान केंद्र में गन्ने पर बोलते हुए, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (वाणिज्यिक फसल) सहायक महानिदेशक आर.के. सिंह ने कहा कि पिछले 49 वर्षों के दौरान, गन्ने की खेती में तीन गुना और चीनी उत्पादन में आठ गुना की वृद्धि हुई है। चीनी की रिकवरी में भी 1.8 गुना वृद्धि हुई है। केंद्र सरकार ने 2030 तक 380 लाख टन चीनी का लक्ष्य तय किया था, लेकिन उच्च-उपज गुणवत्ता वाली फसलों के विकास के कारण, देश 2019 तक ही लक्ष्य के करीब तक पहुंच गया है। अधिक उत्पादन के कारण, सरकार ने नई चीनी नीति पेश की है जिसमें सीधे गन्ने के रस से इथेनॉल के उत्पादन पर ध्यान दिया गया है। इन सभी वर्षों में, इथेनॉल का निर्माण मोलासेस के साथ किया गया था, लेकिन अब यह गन्ने के रस से होगा।

उन्होंने कहा कि, इस वर्ष, देश में उत्तर प्रदेश ने 130 करोड़ लीटर इथेनॉल का उत्पादन किया और इसका 40% उत्पादन करके सूची में सबसे ऊपर है। कुल जीडीपी में कृषि का योगदान 15.2% है जिसमें से 6% गन्ना का है। कपास के बाद, गन्ना भारत में उगाई जाने वाली सबसे अधिक राजस्व देने वाली फसल है। कृषि क्षेत्र विशेषकर गन्ने में नए आविष्कारों और नवाचारों के प्रयास जारी हैं। चूंकि भारत कच्चे तेल का आयात करने के लिए लगभग 8.1 लाख करोड़ रुपये खर्च करता है, इसलिए केंद्र सरकार द्वारा इथेनॉल के उत्पादन पर ध्यान केंद्रित किया गया है, जिसे कच्चे तेल के आयात को कम करने के लिए पेट्रोल के साथ मिश्रित किया जा सकता है। वर्तमान में, 5% इथेनॉल को पेट्रोल के साथ मिश्रित किया जाता है, लेकिन 2024 तक, पेट्रोल के साथ 30% इथेनॉल मिश्रित किया जाएगा। आयात में 70% की कटौती करने में मदद मिलेगी।

सिंह ने सुझाव दिया कि चीनी मिलों को ब्राज़ील चीनी मिल मोडल अपनानी चाहिए जहा यदि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीनी की कीमत बढ़ जाती है तो चीनी उत्पादन पर ध्यान दिया जाता है और अगर चीनी की कीमत घट जाती है तो इथेनॉल उत्पादन के विकल्प के तरफ रुख किया जाता है, जिससे अच्छा राजस्व प्राप्त किया जा सकता है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here