नेपाल: गन्ने की कमी का सामना कर रही है चीनी मिलें….

134

कठमांडू: चीनी मिलें कच्चे माल की कमी का सामना कर रही है, क्योंकि कई किसानों ने बकाया भुगतान का हवाला देते हुए गन्ने की रोपाई नहीं करने का फैसला किया है। उन्हें हर साल अपनी उपज का भुगतान प्राप्त करने के लिए संघर्ष करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। नेपाल गन्ना उत्पादक संघ के अनुसार, देश की 10 ऑपरेटिंग चीनी मिलों में से लगभग सभी को इस साल गन्ने की कमी का सामना करना पड़ रहा है। एसोसिएशन के अध्यक्ष कपिल मुनि मैनाली ने कहा कि, ज्यादातर किसानों ने गन्ने की रोपाई बंद कर दी है। उन्होंने कहा कि, वर्तमान में चालू होने वाली अधिकांश चीनी मिलों के अधिकारियों ने किसानों को नकद भुगतान का लालच देकर गन्ने के खेतों का दौरा करना शुरू कर दिया है।

पेराई सत्र हर साल नवंबर के मध्य से शुरू होता है। हालांकि, इस पीक सीजन के दौरान किसानों को भुगतान न करने वाली चीनी मिलों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए कठमांडू आने के लिए मजबूर किया जाता है। किसानों के अनुसार, सरकार की प्रतिबद्धता के बावजूद 220 मिलियन रुपये से अधिक का बकाया चुकाना बाकी है। पिछले साल से चार चीनी मिलें बंद हैं और बाकी शायद ही उनकी वास्तविक उत्पादन क्षमता के 10 प्रतिशत पर चल रही हैं। गन्ने की कमी के कारण, चीनी मिलें जो प्रति दिन 100,000 टन गन्ने को क्रशिंग की क्षमता रखती हैं, वे मुश्किल से 10,000 टन प्रति दिन क्रशिंग कर रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here