नेपाल: गन्ना किसानों ने शनिवार से नए सिरे से विरोध प्रदर्शन करने की घोषणा की

काठमांडू: गन्ना किसानों ने गुरुवार को एक बार फिर विरोध प्रदर्शन शुरू करने की घोषणा की, जिसमें कहा गया कि सरकार और चीनी मिलों ने किसानों के बकाया के निपटारे में पारदर्शिता नहीं रखी है। गन्ना किसान संघर्ष समिति के अनुसार, उद्योग, वाणिज्य और आपूर्ति मंत्रालय (MoICS) के (गन्ना किसानों को चीनी मिलों द्वारा अधिकांश पैसों का भुगतान हुआ हैं) दावे के बावजूद किसानों को पूरा भुगतान अभी तक नहीं मिला है।

गुरुवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए, किसानों ने कहा कि उद्योग, वाणिज्य और आपूर्ति मंत्रालय ने दावा किया है कि किसानों को 650 मिलियन रुपये की वादा की गई राशि में से 570 मिलियन का भुगतान किया गया है। मंत्रालय ने यह भी दावा किया है कि, शेष 80 मिलियन रुपये भी मंत्रालय के नियंत्रण में आ गए हैं, लेकिन किसान मंत्रालय के बयान से सहमत नहीं हैं। किसानों के अनुसार, मंत्रालय ने जो राशि का दावा किया है कि किसानों को भुगतान किया गया है, उन्हें किसानों के बैंक खातों में जमा करना बाकी है। संघर्ष समिति की प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है की, न तो सरकार और न ही चीनी मिलों ने वास्तव में तय की गई राशि का भुगतान किया है। 28 दिसंबर को, MoICS ने किसानों के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जिसमें मंत्रालय ने 21 दिनों में चीनी मिलों को किसानों के सभी बकाया राशि का भुगतान करने का आश्वासन दिया था। सरकार की समय सीमा सोमवार को समाप्त हो गई। गन्ना किसानों ने सरकारी उदासीनता पर असंतोष व्यक्त किया।

Image courtesy of Admin.WS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here