गन्ना किसानों के लिए लड़ने वाली स्वाभिमानी शेतकारी संगठन में लाए जाएंगे नए चेहरे

1011

कोल्हापुर: चीनी मंडी

लोकसभा और विधानसभा चुनावों में लगातार निराशाजनक प्रदर्शन के कारण पूर्व सांसद राजू शेट्टी ने स्वाभिमानी शेतकारी संगठन (SSS) की राज्य कार्यकारिणी समिति को भंग कर दिया है। संगठन के रविकांत तुपकर ने सोलापुर में संवाददाताओं से कहा कि, शेट्टी ने कार्यकारिणी समिति को भंग कर दिया है और जिला स्तर पर भी सभी पदाधिकारियों को हटा दिया है। संगठन में नए चेहरों को समायोजित करने की योजना बनाई जा रही है, और उन्हें अगले महीने तक नियुक्त किया जाएगा। एक अन्य संगठन नेता ने कहा कि संगठन पदाधिकारी -कार्यकताओं के लिए एक आचार संहिता तैयार करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि उनके द्वारा इसका पालन किया जाए। उन्होंने कहा कि, हर दो साल के बाद पदाधिकारियों को बदल दिया जाएगा।

इस बीच, गन्ना किसानों को संगठन की सोलापुर बैठक से बहुत उम्मीदें हैं क्योंकि ठाकरे सरकार की स्थापना और तीन सप्ताह पहले पेराई सत्र की शुरुआत के बाद किसानों के विभिन्न मुद्दों पर संगठन अभी भी चुप है। संगठन ने पिछले महीने गन्ना परिषद में मिलों से उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) और अतिरिक्त 200 रुपये की मांग की थी, लेकिन अभी तक कई मिलों द्वारा मांग का पालन नहीं किया गया है। चीनी मिल निदेशक और संगठन के प्रतिनिधियों के बीच एक बैठक भी होनी है। उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद पहली बार संगठन की बैठक हो रही है, जो सत्तारूढ़ गठबंधन का भागीदार है।

पश्चिमी महाराष्ट्र के अधिकांश चीनी मिल संचालकों का कांग्रेस या राकांपा के साथ राजनीतिक गठबंधन है, और नए राजनीतिक परिवेश में संगठन द्वारा किसानों के हितों के लिए किसी तरह के कदम उठाए जाते है, उसे राज्य में उत्सुकता से देखा जा रहा है। हर साल पेराई सत्र को लेकर रणनीति तय करने वाले मंत्रियों के समूह की एक महत्वपूर्ण बैठक होनी बाकी है और चीनी मिलें सरकार द्वारा विशेष निर्देशों के अभाव के बावजूद पेराई में लगी हुई हैं।
चुनाव आचार संहिता और सरकार के गठन में देरी के कारण इस वर्ष पेराई सत्र में भी देरी हुई थी। सांगली और कोल्हापुर जिले में किसानों के अनुरोध के कारण चीनी मिलों को तुरंत शुरू कर दिया गया है, क्योंकि बाढ़ और बेमौसम बारिश के कारण गन्ना फसल पहले से ही क्षतिग्रस्त हो गया है।

शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस सरकार को समर्थन पर बात करते हुए संगठन नेता राजू शेट्टी ने बुधवार को स्वीकार किया कि भाजपा का विरोध करने के लिए उन्हें और संगठन को भारी कीमत चुकानी पड़ी जिसके कारण वह दो चुनाव हार गए।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here