…नहीं तो समंदर में फेंकनी पड़ेगी चीनी

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुजफ्फरनगर : केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि, देश में चीनी का उत्पादन जिस तरह लगातार बढ़ रहा है और अंतरराष्ट्रीय बाजार में मूल्य घट रहा है, ऐसे हालात में चीनी को समंदर में फेंकना पड़ेगा।

गन्ने के रस से एथनॉल बनाकर ही किसान और सरकार दोनों की समस्या का निदान हो सकता है। इससे प्रदेश में 25 हजार युवा किसानों को रोजगार मिलेगा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चीनी के दाम 20 रुपये किलो हैं। केंद्र सरकार की नीति के चलते देश में चीनी के दामों को रोककर रखा गया है। किसानों को जो भुगतान किया जा रहा है, उसे देखते हुए 34 रुपये किलो चीनी बिके तब मिल को लाभ होगा। हमें ब्राजील की तरह तकनीक अपनानी होगी और एथनॉल बनाकर ही इस समस्या का समाधान करना होगा।

गडकरी ने कहा की, जिस तरह लगातार चीनी का उत्पादन बढ़ रहा है, यदि समय रहते नहीं चेता गया तो चीनी को समुद्र में फेंकना पडे़गा। वहीं, गडकरी ने प्रदेश के गन्ना राज्य मंत्री सुरेश राणा से कहा कि वह उनसे आकर मिल सकते हैं और पूरी तकनीक को समझ सकते हैं।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here