नितिन गडकरी ने विदर्भ में किसानों को कपास और सोयाबीन की जगह गन्ने की खेती चुनने का सुझाव दिया

127

नागपुर: केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने विदर्भ के किसानों को फसल के नुकसान के बारहमासी मुद्दे से निपटने और व्यापक रूप से खेती की जाने वाली कपास और सोयाबीन फसलों पर निर्भरता को दूर करने के लिए गन्ने की खेती का विकल्प चुनने का सुझाव दिया है। उन्होंने यह बात वर्धा जिले के मांडवा गांव में किसानों को संबोधित करते हुए कही, जहां उन्होंने धाम नदी और मोती नाले के जीर्णोद्धार कार्य की समीक्षा की।

टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, गडकरी ने किसानों से कहा कि, वह महाराष्ट्र के पश्चिमी हिस्सों, विशेष रूप से कोल्हापुर, सोलापुर और सांगली में अपने समकक्षों की सफलता की कहानी को दोहराना चाहते हैं। विदर्भ में 75-100 टन से अधिक गन्ने के उत्पादन के लिए किसानों के कई उदाहरणों का हवाला देते हुए, उन्होंने कहा कि, यह क्षेत्र के किसानों के लिए समृद्धि लाएगा। टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, हालांकि, गडकरी की सलाह से कृषि विशेषज्ञ, कार्यकर्ता और किसान असहमत हैं और उन्होंने दावा किया कि विदर्भ में गन्ने की फसल पानी की कमी के कारण अनुकूल नही है। कृषि विशेषज्ञों ने कहा कि, यदि विदर्भ में अधिकांश किसान गन्ने की खेती शुरू करते हैं, तो इससे भूजल स्तर पहले से ज्यादा खराब हो जाएगा क्योंकि इस क्षेत्र में परंपरागत रूप से उगाई जाने वाली कपास, सोयाबीन, धान और दालों जैसी अन्य फसलों की तुलना में अधिक पानी की आवश्यकता होती है। विशेषज्ञों ने चेतावनी देते हुए कहा कि गन्ने की खेती कृषि संकट को बढ़ाएगी।

कृषि विशेषज्ञ विजय जावंधिया ने कहा की, गन्ना एक पानी की खपत वाली फसल है, जो कई कारकों के कारण विदर्भ के लिए उपयुक्त नहीं है। इसके अलावा, चीनी मिलें के 10-15 किमी की दायरे में होनी चाहिए अन्यथा परिवहन लागत बढ़ जाती है, जिसका सीधा असर किसानों के आय पर होता है। यही कारण है कि राज्य के इस हिस्से में गन्ना फसल और चीनी मिलें कामयाब नहीं हो पाई हैं।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here