संजीवनी चीनी मिल बंद करने को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया: सरकार

217

पोंडा: संजीवनी चीनी मिल बंद होने की खबर के बाद गन्ना किसानों द्वारा इस फैसले के विरोध में आंदोलन छेड़ना का इशारा देने के कुछ घंटों बाद, राज्य सरकार ने कहा की संजीवनी चीनी मिल को बंद करने पर कोई फैसला नहीं हुआ है। सूचना और प्रचार विभाग के माध्यम से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में, सरकार ने कहा कि उसने संजीवनी मिल को बंद करने का कोई निर्णय नहीं लिया है।

इससे पहले बुधवार को, राज्य में गन्ना किसानों को बड़ा झटका लगा जब संजीवनी चीनी मिल के प्रशासक डॉ. तारिक थॉमस ने कहा कि, मिल द्वारा भविष्य में संचालन शुरू नहीं होगा। मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए, गन्ना किसान संघठन के अध्यक्ष राजेंद्र देसाई ने कहा कि, प्रशासक ने उन्हें बुधवार को सूचित किया कि मिल को पहले ही 168 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है और इसलिए भविष्य में परिचालन शुरू नहीं होगा। गन्ना किसानों ने मांग की कि, सरकार उन्हें मिल बंद करने के बारे में लिखित में दे। बंद होने के मामले में, किसानों ने मांग की कि उन्हें पिछले साल सरकार को सौंपे गए प्रस्ताव के अनुसार 14 साल के लिए मुआवजा दिया जाए।

उन्होंने कहा, सरकार के इस फैसले से किसानों ने खुद को ठगा महसूस किया है। हमने पहले कोई भी फैसला लेने से पहले सरकार को विश्वास में लेने के लिए कहा था। हम चाहते हैं कि,सरकार आमने-सामने बैठकर फैसला करे।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here