चीनी की बिक्री में गिरावट के कारण बढ़ी आर्थिक समस्या; गन्ना किसान भी परेशान

197

नई दिल्ली : चीनी मंडी

कोरोना वायरस महामारी को नियंत्रित करने के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बाद चीनी की बिक्री में गिरावट ने चीनी उद्योग में नकदी संकट पैदा कर दिया है। जिसके कारण चीनी मिलें भी गन्ना किसानों का भुगतान करने में विफल रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गन्ना बकाया 18,000 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

‘इस्मा’ के महानिदेशक अविनाश वर्मा ने कहा, चीनी आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में आता है, इसलिए चीनी उद्योग पर कोई बड़ा प्रभाव नहीं पड़ा है, लेकिन बड़े खरीदारों की मांग में कमी के कारण चीनी की बिक्री में काफी गिरावट आई है। ‘इस्मा’ की रिपोर्ट के अनुसार, मार्च और अप्रैल में चीनी की बिक्री में 10 लाख टन की गिरावट आई है। चीनी की कमजोर मांग और नकदी संकट के कारण समस्याएं बढ़ गई हैं।

देश में कोरोना महामारी फैलने के लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था, जिसके कारण होटल और रेस्तरां सहित सभी खाद्य दुकानें बंद है। ऐसी स्थिति में, कन्फेक्शनरों, बेकरी निर्माताओं और कोल्ड्रिंक्स कंपनियों जैसे चीनी के बड़े खरीदार खरीदारी नहीं कर रहे है। न्यूनतम मांग के कारण नकदी की आवक प्रभावित हुई है, जबकि देश के कुछ क्षेत्रों में, विशेषकर उत्तर भारत में, चीनी मिलें चल रही हैं, उन्हें नकदी की आवश्यकता है क्योंकि वे किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान करने में असमर्थ हैं। चीनी बिक्री में कमी के कारण तरलता की समस्या पैदा हुई थी। उसी समय, दूसरी समस्या पेट्रोल की मांग कम होने के कारण थी क्योंकि ओएमसी (तेल विपणन कंपनियों) ने इथेनॉल की खरीद को कम करना शुरू कर दिया था।

देश भर की चीनी मिलों ने 1 अक्टूबर 2019 से 30 अप्रैल 2020 के बीच 258.01 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है। यह पिछले साल के समान समय में उत्पादित 321.71 लाख टन से 63.70 लाख टन कम है। इसका मतलब यह है की अब तक चीनी उत्पादन में 20 फीसदी की गिरावट हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here