गन्ना कटाई मजदूरों की कमी से गन्ना किसान काफी परेशान

590

मैसूरु: मजदूरों की कमी से कर्नाटक के गन्ना किसान काफी परेशान है, और कई किसान अपनी फसल नष्ट कर रहें है। मंड्या जिले के पांडवपुरा तालुक में एक किसान ने अपने गन्ने को नष्ट कर दिया। चिक्कबदादारहल्ली गाँव के. सी. बी चंदन ने अपनी 1 एकड़ जमीन पर खड़ी 50 टन फसल पर ट्रैक्टर चलाया। मंड्या में मैसूर शुगर और पांडवपुरा में पांडवपुरा सहकारी चीनी मिल के बंद होने से किसानों को मजबूर किया है। मंड्या जिले के किसान या तो अपनी फसल को कम दामों में गुड़ की इकाइयों या निजी चीनी मिलों को बेच देते हैं। चंदन ने कहा, पिछले कुछ वर्षों से चीनी मिल बंद हैं और कटाई के लिए मजदूरों की भारी कमी है। यहाँ के गन्ना किसान आमतौर पर कटाई के लिए ठेकेदारों के माध्यम से उत्तर भारत से श्रमिकों को लाते हैं।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया डॉट कॉम में प्रकशित खबर के मुताबिक, गन्ना उत्पादक संघ के प्रदेश अध्यक्ष कुरुबुरु शांताकुमार ने कहा कि, गन्ना किसानों को अपनी खड़ी फसलों को नष्ट करने से बचना चाहिए। कोरोना वायरस के कारण, निजी मिलों ने भी अपनी गतिविधियों को रोक दिया है। इससे उत्तर भारत और उत्तरी कर्नाटक के मजदूर घर लौट आए हैं। हालाँकि, मैसूरु और मंड्या के लोग जो दूसरे राज्यों में चले गए थे, वे अपने गाँव लौट आए हैं। किसान उन्हें कटाई के लिए रख सकते हैं।

गन्ना किसान काफी परेशान यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here