मराठवाड़ा में नई चीनी मिलों को अनुमति नहीं

698

पुणे : चीनीमंडी

पानी की कमी और सूखे के चलते महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस मराठवाड़ा में चीनी मिलों की स्थापना की सशर्त अनुमति देने की बात कर रहे हैं, लेकिन बुधवार को पूर्व सांसद राजू शेट्टी ने कहा कि, राज्य सरकार को मराठवाड़ा में नई चीनी मिलों की अनुमति नहीं देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि, सरकार को किसानों को दलहन और तिलहन जैसी सूखा प्रतिरोधी फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए, जो न केवल मराठवाड़ा की जलवायु के अनुकूल हैं बल्कि भूजल को रिचार्ज करने में नमी को बनाए रखेंगे।

हाल ही में, नई चीनी इकाइयों के लिए अनुमोदन पर टिप्पणी करते हुए, फडणवीस ने कहा था कि, अनुमति केवल उन मिलों को दी जाएगी जो ड्रिप सिंचाई का उपयोग करने के लिए सहमत होगी। शेट्टी ने कहा, हर साल मराठवाड़ा क्षेत्र में तीव्र जल संकट को देखते हुए, सरकार को वहां चीनी मिल स्थापित करने के बारे में फिर एक बार सोचना चाहिए। इस क्षेत्र में वर्षा का पैटर्न बेहद अस्थिर है और नियमित रूप से पानी की आपूर्ति की कोई गारंटी नहीं है, इसलिए मिलों के सशर्त मंजूरी का सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने कहा कि, गन्ने की खेती के लिए ड्रिप सिंचाई, जिसे 2017 में फड़नवीस सरकार द्वारा अनिवार्य किया गया था, शायद मराठवाड़ा में गिरते भूजल स्तर के कारण लागू किया गया था और ड्रिप सिंचाई प्रणाली की निगरानी की कमी थी।

शेट्टी ने कहा, राज्य में 190 चीनी मिलों में से मराठवाड़ा और विदर्भ क्षेत्रों में फैली 70 इकाइयां पुनर्वास की किसी भी उम्मीद से परे हैं उन्होंने चीनी मिलों को इथेनॉल उत्पादन पर स्विच करने की आवश्यकता पर श्री नितिन गडकरी के विचारों पर संदेह व्यक्त किया।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here