केनिया: आयातित सस्ते चीनी के कारण नोजिया शुगर कंपनी संकट में

Listen to this article

नोजिया शुगर कंपनी को ठेके के गन्ना सप्लायरों के बकाये का भुगतान 14 दिन में करने का नोटिस जारी किया गया है। भुगतान पूरा नहीं करने पर किसान चीनी मिल का बहिष्कार करेंगे।

केनिया नेशनल फेडरेशन ऑफ शुगरकेन फार्मर्स (KNFSF) ने नोजिया चीनी मिल को 14 दिनों की हड़ताल का नोटिस जारी किया और कहा की मांग नहीं मानने पर किसानों को बहिष्कार के लिए लामबंद होना पड़ेगा।

KNFSF के बुंगोमा स्थित क्षेत्रीय अध्यक्ष स्टीफन वालुपी ने कहा कि किसानों का बकाया राशि Sh300 मिलियन है। उन्होंने कहा कि चीनी मिल में किसी भी तरह के निजीकरण वार्ता शुरू होने से पहले ऋण का भुगतान किया जाना चाहिए। वालुपी ने कहा कि हम पहले ही किसानों के भुगतान के लिए मिल के अधिकारियों को सूचित कर चुके हैं।

नोजिया शुगर कंपनी के निदेशक मंडल के अध्यक्ष जोश वमांगओली ने इस बात को माना कि राज्य के स्वामित्व वाले चीनी मिल ने ठेके के के बकाया राशि का भुगतान नहीं किया है।

उन्होंने कहा कि उनकी चीनी मिल गन्ने की कमी और बाजार में चीनी की बिक्री की दिक्कतों के कारण मिल को वित्तीय कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि बाजार में आयातित सस्ते चीनी की बाढ़ है। इससे नोजिया शुगर कंपनी संकट में आ गई है।

वामनगोली ने कहा कि किसानों के बकाये के साथ साथ मिल के सामने कंपनी के कर्मचारियों के वेतन भी अभी तक नहीं चुका पाएं हैं। मिल प्रबंधन इन चुनौतियों से भी अवगत है। प्रबंधन ने किसानों के बकाये के शीघ्र भुगतान किये जाने का आश्वासन दिया।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here