कोरोना के चलते चीनी उद्योग में चुनौतियां का सामना कैसे किया जाये इस संदर्भ में 29 अप्रैल को NSI द्वारा वेबिनार का आयेाजन

233

कानपुर: अन्‍य उद्योगों की तरह, देश का चीनी उद्योग भी कोविड-19 के कारण प्रभावित हुआ है। देश में इस वर्ष भी जहां चीनी का उत्‍पादन मांग से अधिक होने की संभावना है वहीं चीनी की खपत गत वर्षों की अपेक्षा घटने का अनुमान है। ऐसा मुख्‍यत: मिठाई, कोल्‍डड्रिंक, पेस्‍ट्री व अन्‍य पेय पदार्थों के उपभोग में कमी होने के कारण है। चीनी की खपत वैश्‍विक स्‍तर पर कम होने के कारण चीनी के दाम अन्‍तर्राष्‍ट्रीय बाजार में भी कम हुये हैं। इससे व यातायात की समस्‍या के कारण चीनी का निर्यात भी प्रभावित होने की संभावना है। साथ ही चीनी मिलों से संबद्व डिस्‍टलरियों द्वारा उत्‍पादित इथेनाल के पेट्रोल में 10 प्रतिशत मिश्रण किये जाने पर भी कच्‍चे तेल के दामों में कमी होने एवं कुल तेल की खपत कम होने के कारण, प्रभाव पड़ने की संभावना है।

इन परिस्‍थितियों व चुनौतियां का सामना कैसे किया जाये और किन विकल्‍पों पर कार्य किया जाये, इस संदर्भ में दिनांक 29 अप्रैल 2020 को राष्‍ट्रीय शर्करा संस्‍थान द्वारा ‘’Impact of Covid-19 on Indian Sugar Industry’’ वेबिनार का आयेाजन किया जा रहा है जिसमें प्रो नरेन्‍द्र मोहन, निदेशक, राष्‍ट्रीय शर्करा संस्‍थान इस विषय पर अपने विचार रखेंगे एवं देश-विदेश के प्रतिभागियों के सवालों के जवाब देंगे। इस वेबिनार हेतु 500 से अधिक रजिस्‍ट्रेशन देश-विदेश से हो चुके हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here