सीजन 2019-20 के लिए इथेनॉल डिमांड में 55 प्रतिशत बढ़ोतरी

381

नई दिल्ली : चीनी मंडी

इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL), हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HPCL), सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों ने 2019-2020 के लिए इथेनॉल खरीद निविदा जारी की। चालू वर्ष 2019-20 के लिए तेल विपणन कंपनियों (OMCs) ने 511 बिलियन लीटर इथेनॉल खरीदने की प्रक्रिया शुरू की है, जो पिछले वर्ष की 329 बिलियन लीटर की तुलना में 55% अधिक है।

इथेनॉल के बढ़ते सम्मिश्रण और कच्चे तेल के आयात बिलों को कम करने के उद्देश्य से, केंद्र सरकार ने कई कदम उठाए हैं, जिनमें तिलों / गन्ने के रस / मोलासिस / चीनी की चाशनी से इथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा देना शामिल है। यह आर्थिक कठिनाइयों में फंसे बीमार चीनी उद्योग की वित्तीय स्थितियों को सुधारेगा।

हालही में केंद्र सरकार ने बी- हैवी मोलासेस वाले एथेनॉल की कीमतें 52.43 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 54.27 रुपये प्रति लीटर कर दी हैं और वही दूसरी ओर सी-हैवी मोलासेस वाले एथेनॉल की कीमत 43.46 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 43.75 रुपये लीटर कर दी हैं। गन्ने के रस, चीनी, चीनी सीरप से सीधे बनने वाले एथेनॉल का भाव 59.48 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है।

राज्य वर्ष 2018-19 वर्ष 2019-20
आंध्र प्रदेश 149068 214324
बिहार 101392 145588
छत्तीसगढ़ 75055 108041
दिल्ली 131342 158018
गोवा 22572 38646
गुजरात 171020 307808
हरियाणा 136504 224775
हिमाचल प्रदेश 11000 37118
झारखंड 52541 87930
कर्नाटक 278587 380832
केरल 193190 261070
मध्य प्रदेश 156320 243026
महाराष्ट्र 416557 727649
ओडिशा 93441 149426
पंजाब 124252 172160
राजस्थान 160579 269296
तमिलनाडु 310104 446312
तेलंगाना 149464 220214
उत्तर प्रदेश 415513 618206
उत्तराखंड 27930 54242
पश्चिम बंगाल 116178 171791
असम 49128
सिक्किम 1224
जम्मू और कश्मीर 27454
कुल 3292609 5114278

2019-20 के लिए निविदा में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की, पहली बार ओएमसी ने उत्तर पूर्वी राज्यों, सिक्किम, असम और सबसे दिलचस्प जम्मू और कश्मीर के लिए प्रस्ताव आमंत्रित किए हैं। जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाने के बाद माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस राज्य के विकास के लिए ध्यान केंद्रित किया है। केंद्र सरकार का 2030 तक पेट्रोल के साथ 20% इथेनॉल ब्लेंडिंग करने का टार्गेट है और देश उसी दिशा में आगे बढ़ रहा है। इथेनॉल चीनी मिलों के लिए एक अतिरिक्त राजस्व मार्ग प्रदान करता है, इसके अलावा चीनी मिलों को वित्तीय रूप से सक्षम बनने में मदद करेगा।

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here