एक और देश, भारत की चीनी सब्सिडी के खिलाफ ‘डब्ल्यूटीओ’ में….

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

नई दिल्ली : चीनी मंडी

भारत की चीनी सब्सिडी के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) विवाद निपटान मामले में ग्वाटेमाला द्वारा मांगी गई परामर्श में शामिल होने के लिए थाईलैंड ने अपनी रुचि व्यक्त की है। 25 मार्च को, ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया के बाद, ग्वाटेमाला ने भारत को विश्व व्यापार संगठन में खींच लिया, जिसमें आरोप लगाया गया कि, किसानों को भारत द्वारा दी जा रही चीनी सब्सिडी वैश्विक व्यापार नियमों के साथ असंगत है।

थाइलैंड ने कहा कि, वह भारत की चीनी सब्सिडी के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) विवाद में ग्वाटेमाला द्वारा अनुरोधित चर्चा / विवाद में शामिल होना चाहता है। थाईलैंड को इन मुद्दों में पर्याप्त व्यापार रुचि है और कहा की  2018 में यह 2,596.78 मिलियन अमरीकी डॉलर के निर्यात मूल्य के साथ चीनी का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा निर्यातक था।

थाईलैंड का डब्ल्यूटीओ अनुरोध…

उन्होंने कहा, इस पर्याप्त व्यापार हित के परिणामस्वरूप, थाईलैंड सम्मानपूर्वक अनुरोध करता है कि उसे इस विवाद चर्चा में शामिल होने की अनुमति दी जाए। थाईलैंड इस अनुरोध को स्वीकार करने और परामर्शों की तारीख और स्थान के बारे में सलाह देने के लिए तत्पर है। परामर्श लेना विवाद निपटान प्रक्रिया का पहला चरण है। यदि परामर्श के माध्यम से दोनों राष्ट्र परस्पर सहमत समाधान तक नहीं पहुंच पाते हैं, तो भारत इस मामले की समीक्षा के लिए डब्ल्यूटीओ विवाद निपटान पैनल के लिए अनुरोध कर सकता है।

ग्वाटेमाला ने क्या कहा….

ग्वाटेमाला ने कहा है कि, भारत गन्ने और चीनी उत्पादकों के पक्ष में विभिन्न घरेलू समर्थन उपायों को बनाए रखता है, जैसे कि गन्ने के लिए प्रशासित कीमतों की एक प्रणाली जो उचित और पारिश्रमिक मूल्य के माध्यम से संघीय स्तर पर संचालित होती है। चीनी के लिए न्यूनतम बिक्री मूल्य और अतिरिक्त उपाय जो गन्ना उत्पादकों को वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं, जिसमें गन्ना मूल्य बकाया की भरपाई के लिए मिलों को उत्पादन सब्सिडी, और बफर स्टॉक को बनाए रखने के लिए सब्सिडी शामिल हैं।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here