प्रशासन की अनुमति के बिना बेची गई चीनी; FIR हुआ दर्ज

Listen to this article

बरेली: पहले तो बकाया भुगतान में देरी के चलते किसानों मे काफी आक्रोश है, और अब तो किसानों के साथ धोखाधडी के मामले भी सामने आ रहे है। जिससे किसान आहत हुए है और राज्य की योगी सरकार अ‍ॅक्शन में दिखाई दे रही है। अब मामला सामने आया है, यदु शुगर मिल का, जिसने प्रशासन की अनुमति के बिना चीनी बेची और उससे मिलने वाली धनराशि से किसानों का बकाया भुगतान नहीं किया, जिसके कारण डीएम दिनेश कुमार सिंह ने यदु शुगर मिल के प्रबंध निदेशक कुणाल यादव समेत सुरेश चंद्र जौहरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। कुणाल यादव उत्तर प्रदेश के कद्दावर नेता डीपी यादव के बेटे है।

सुजानपुर में स्थापित यदु शुगर मिल पर किसानों का तकरीबन 115.52 करोड रुपये भुगतान बकाया है। साथ ही 2.06 करोड रुपये समिति का भी अंशदान बकाया है। किसानों को बकाया भुगतान नहीं मिलने की वजह से वे बेहद ही परेशान है, जबकि यदु शुगर मिल प्रबंधन की ओर से एक जुलाई 2019 से 21 अगस्त 2019 तक चीनी की ब्रिकी की गई। इससे 20.24 करोड रुपये ब्रिकी हुई। इसमें 9.05 करोड रुपये का ही भुगतान गन्ना मूल्य/ समिति अंशदान को किया गया, जबकि 8.15 करोड रुपये की धनराशि का उपयोग अन्य कामों में कर लिया गया। जबकि इस धनराशि को किसानों में बांटने के निर्देेश दिए गए थे, लेकिन चीनी मिल की ओर से इसका पालन नहीं किया गया। एसडीएम को निर्देश दिए गए हैं कि, चीनी को अपनी अभिरक्षा में लेते हुए उसकी निकासी पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाए, साथ ही अपनी निगरानी में इसकी बिक्री कर किसानों को उनका भुगतान किया जाए।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here