पाकिस्तान : चीनी मिलों, किसानों और सरकारी अधिकारियों के बीच गन्ना मूल्य पर गतिरोध

132

इस्लामाबाद: चूंकि देश में उपभोक्ता विभिन्न वस्तुओं की उच्च कीमतों से पीड़ित हैं, दूसरी ओर चीनी मिलों, किसानों और सरकारी अधिकारियों के बीच गन्ने के मूल्य पर गतिरोध बना हुआ है।उद्योग और उत्पादन मंत्री हम्माद अजहर ने स्वीकार किया कि, चीनी की कीमतें एक बार फिर बढ़ रही हैं और सरकार कच्ची चीनी पर आयात शुल्क को समाप्त करने पर विचार कर रही है ताकि देश में उचित मूल्य पर पर्याप्त स्टॉक सुनिश्चित किया जा सके।एक निजी टीवी चैनल पर बोलते हुए, मंत्री हम्माद अजहर ने कहा कि, उनका मंत्रालय इस संबंध में आर्थिक समन्वय समिति (ईसीसी) को नोट भेजेगा।उन्होंने गन्ना खरीद में बिचौलियों की भूमिका को स्वीकार किया और कहा कि इस प्रथा को खत्म करने के लिए प्रांतीय सरकारों को निर्देशित किया गया था।

उन्होंने कहा कि, जमाखोरी को रोकने के लिए फेडरल बोर्ड ऑफ रेवेन्यू द्वारा चीनी मिलों में उत्पादन आंकड़ों के बारे में जानने के लिए कैमरे लगाए जाएंगे।इस बीच, पाकिस्तान शुगर मिल्स एसोसिएशन (PSMA) के अध्यक्ष इस्कंदर खान ने प्रधान मंत्री इमरान खान को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने चीनी मूल्य के मुद्दों पर प्रकाश डाला है और अफगानिस्तान और मध्य एशिया के लिए चीनी और गुड़ (गुड़) की तस्करी को रोकने के उपायों पर सोचविचार करने की अपील की है। कराची के रिटेल ग्रॉसर्स ग्रुप के अध्यक्ष फरीद कुरैशी ने कहा, फिलहाल खुदरा मूल्य 95 रुपये प्रति किलोग्राम के साथ थोक कीमत 90 रुपये तक पहुंच गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here