पाकिस्तान चीनी निर्यात पर लगा सकता है प्रतिबंध

247

पाकिस्तान में चीनी की कीमतें आसमान छू रही हैं; इसलिए, सरकार इसे कम करने के लिए हर मुमकिन कदम खोज रही है। देश में चीनी मूल्य वृद्धि पर चर्चा के लिए एक बैठक बुलाई गई थी, जहाँ सरकार ने चीनी उद्योग को चेतावनी दी है कि यदि घरेलू बाजार में चीनी की कीमत में वृद्धि जारी रहती है, तो निर्यात पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है। बैठक की अध्यक्षता वाणिज्य, कपड़ा, उद्योग और उत्पादन और निवेश पर प्रधानमंत्री के सलाहकार, अब्दुल रजाक दाऊद के उपस्तिथि में हुई।

पिछले दो महीनों में, देश में चीनी की कीमतों में अचानक वृद्धि देखी गई क्योंकि रमजान में शक्कर नागरिको के लिए 54 रुपये प्रति किलोग्राम पर उपलब्ध था। मूल्य निगरानी समिति ने अपनी हालिया बैठक में चीनी मूल्य में वृद्धि पर गंभीर चिंता व्यक्त की।

खुले बाजार में चीनी की कीमतें नीचे लाने के लिए सरकार ने पहले ही संभागीय आयुक्तों को निर्देश दिया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, थोक बाजार में चीनी का दाम 76 रुपये प्रति किलो तक है। चीनी के मूल्य को कम करने के लिए सरकार से निर्देश प्राप्त होने के बाद, रावलपिंडी में जिला प्रशासन ने थोक बाजार में चीनी का मूल्य 74 रुपये प्रति किलोग्राम तय किया था और यह सुनिश्चित करने के लिए बाजार में छापेमारी करने का ऐलान भी किया था।

जून में पाकिस्तान सरकार ने 3.30 रुपये प्रति किलोग्राम चीनी का कर पेश किया। इसके बाद ऐसी खबरें आईं कि इसे बाजार में अत्यधिक दरों पर बेचा जा रहा है। साथ ही, चीनी जमाखोरी की शिकायतों के बाद, सरकार ने चीनी के जमाखोरों पर कार्रवाई शुरू की और चीनी के हजारों बैग जब्त किए।

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here