पाकिस्तान: चीनी की दरें प्रति किग्रा 100 रूपये के करीब होने की उम्मीद

165

हैदराबाद: 2019-20 की तुलना में, भले ही इस गन्ना पेराई सत्र में अधिक चीनी उत्पादन का अनुमान लगाया जा रहा है, लेकिन उपभोक्ताओं को चीनी की कीमत में कोई राहत मिलने की संभावना नहीं है क्योंकि आने वाले दिनों में दरें प्रति किग्रा 100 रूपये के पार होने की उम्मीद है। पाकिस्तान शुगर मिल्स एसोसिएशन (PSMA) के चेयरमैन अहमद बवानी ने चीनी की बढती कीमतों के लिए किसानों को दिए जाने वाले गन्ने की मूल्य वृद्धि को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने दावा किया की, चीनी की कुल उत्पादन लागत का लगभग 73 प्रतिशत भुगतान किसानों को किया जाता है।

उन्होंने कहा, पाकिस्तान में इस सीजन में औसत गन्ने का मूल्य प्रति 40 किलोग्राम 275 रूपये है। सिंध के लिए औसत कीमत 300, मध्य सिंध 250 और ऊपरी सिंध क्षेत्र में 250 रुपये है। सिंध सरकार ने गन्ने के लिए प्रति किलो 40 रुपये की दर तय की थी। सिंध पंजाब के बाद दूसरा सबसे बड़ा गन्ना उत्पादक प्रांत है। देश की कुल 84 मिलों में से अड़तीस चीनी मिलें सिंध में स्थित हैं। शुरुआत में, 32 चीनी मिलों ने पेराई शुरू की। बवानी ने कहा, चीनी की रिकवरी पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष 0.3-0.4 प्रतिशत कम हो गई। सिंध की फसल में सुक्रोज की रिकवरी पंजाब की तुलना में अधिक है। सिंध पीएसएमए प्रमुख ने कहा, चीनी की एक्स-फैक्ट्री दर आने वाले दिनों में लगभग 93 -95 रूपये प्रति किलो हो जाएगी और यह खुदरा लागत को 100 रूपए प्रति किलोग्राम से थोड़ा अधिक ले जाएगा। उन्होंने कहा कि, उत्पादन की लागत के आधार पर चीनी थोड़ी अधिक महंगी होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here