पलवल चीनी मिल पेराई करने में असमर्थ; अन्य चीनी मिलों को गन्ना हस्तांतरित

229

पलवल: भारी गन्ना संचय और पलवल सहकारी चीनी मिल कि पेराई में असमर्थता को देखते हुए रोहतक जिले की दो मिलों को 5 लाख क्विंटल गन्ना हस्तांतरित करना शुरू कर दिया गया है। मिल ने पिछले साल लगभग 25 लाख क्विंटल की पेराई की थी। यह शायद पहली बार है कि गन्ने को अन्य मिलों को हस्तांतरित किया जा रहा है। खबरों के मुताबिक, सीजन देरी शुरू होने के कारण सीजन की शुरुआत में निर्धारित 29 लाख क्विंटल के लक्ष्य को प्राप्त करने में मिल सक्षम नहीं है।

12 करोड़ रुपये की लागत से अपग्रेड होने के बावजूद, 12 दिसंबर, 2019 को औपचारिक उद्घाटन के बाद मिल ने 5 जनवरी से अपनी पूरी क्षमता से पेराई शुरू कर दी। इस सीजन में तकनीकी खराबी के कारण मिल को 45 से अधिक दिनों का नुकसान हुआ। 2018-19 सत्र में 12 नवंबर से ही पेराई का काम शुरू हो गया था। तकनीकी खराबी के कारण गन्ना उत्पादकों द्वारा आपूर्ति की जाने वाली विशाल गन्ना सूची का संचय हुआ है। इससे रोहतक और महम शहरों में चीनी मिलों में लगभग 5 लाख क्विंटल गन्ना ट्रांसफर किया गया है। इसकी परिवहन की लागत पलवल मिल द्वारा वहन की जाएगी, और किसानों को भुगतान स्थानीय कार्यालय द्वारा हमेशा की तरह जारी किया जाएगा। मिल का 29 लाख क्विंटल में से पेराई का लक्ष्य घटकर 20 लाख क्विंटल हो सकता है। पिछले सीजन (20 फरवरी तक) की कुल 15 लाख क्विंटल पेराई के मुकाबले मिल इस बार केवल 8 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई हो सकी है। हालांकि, अधिकारियों ने दावा किया कि, इस मिल में चीनी की रिकवरी (एक क्विंटल गन्ने से) 11 किलोग्राम प्रति क्विंटल तक पहुंच गई है, जो इस सीजन में सबसे ज्यादा है। पिछले साल यह लगभग 10.2 किलोग्राम प्रति क्विंटल थी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here