बकाया गन्ना भुगतान: स्वाभिमानी शेतकरी संगठन का धरना देने का फैसला

121

सांगली: महाराष्ट्र के चीनी जिलों के सामने स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के रूप में संकट मंडरा रहा है। पूर्व सांसद राजू शेट्टी की अध्यक्षता वाले किसान संगठन ने गन्ने के बकाया और आंशिक भुगतान के विरोध में राज्य के मंत्रियों के घरों के बाहर धरना देने का फैसला किया है। इस सप्ताह के शुरू में, संगठन के सदस्यों को हिरासत में ले लिया गया , जब वे सांगली जिले के वालवा तालुका में राजारामबापू सहकारी चीनी मिल के बाहर विरोध प्रदर्शन करने गए थे। राजारामबापू मिल ने खरीदे गए गन्ने का उचित और पारिश्रमिक मूल्य (FRP) किश्तों में देने का फैसला किया है। राज्य में 187 मिलों में से 97 मिलों के किसानों ने किश्तों में भुगतान करने के लिए अनुबंधों पर हस्ताक्षर किये है।

राजारामबापू सहकारी चीनी मिल के बाहर विरोध प्रदर्शन करने गए संगठन के सदस्यों को हिरासत में ले लिया गया था, शेट्टी विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करने गए थे। किसान नेता शेट्टी ने तब घोषणा की थी कि, वह 22 मार्च को सतारा जिले के कराड तालुका में सह्याद्री सहकारी चीनी मिल के बाहर विरोध प्रदर्शन करेंगे। पेराई सत्र के आखिरी चरण में, मिलों के पास 2,300 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है। चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड ने 13 मिलों के खिलाफ संपत्तियों की जब्त करने का आदेश जारी किया है, जिनका बकाया अब राजस्व डिफ़ॉल्ट के रूप में वसूला जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here