अफगानिस्तान में चीनी समेत अन्य वस्तुओं की कीमतों में बढ़ोतरी

261

काबुल : अफगानिस्तान में बढ़ती महंगाई ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है, राजधानी काबुल में खाद्य पदार्थों और ईंधन की कीमतों में पिछले साल की तुलना में लगभग 100 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। पिछले साल तेल कैन की कीमत 1,050 से 1,200 अफगानी थी, लेकिन अब यह 2,500 अफगानी तक पहुंच गई है। देश में जिस व्यक्ति की आय 5,000 अफगानी प्रति माह है, वह आटे का एक थैला और तेल की एक कैन इन दो से अधिक वस्तुओं को नहीं खरीद सकता है। पिछले साल आटे का एक बैग 1,300 अफगानी था, लेकिन अब यह बढ़कर 2,300 अफगानी हो गया है। तेल कैन की कीमत 1,200 अफगानी थी, लेकिन अब यह 2,200 अफगानी तक पहुंच गई है।

इस बीच, उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि वे पड़ोसी देशों के सहयोग से खाद्य पदार्थों की कीमतों को कम करने की कोशिश करेंगे। उद्योग और वाणिज्य के कार्यवाहक मंत्री नूरुद्दीन अज़ीज़ी ने बताया कि, तालिबान के आने से कीमतें नहीं बढ़ी है, बल्कि पूरी दुनिया में कीमतें बढ़ी हैं। पिछले साल, एक लीटर ईंधन 40 अफगानी था, लेकिन COVID-19 के कारण, अब यह लगभग दोगुना होकर 80 अफगानी हो गया है।

काबुल में कुछ थोक विक्रेताओं द्वारा दिए गए आंकड़ों के आधार पर, अधिकांश खाद्य पदार्थों की कीमत पिछले साल की तुलना में इस साल दोगुनी हो गई है। आटे की कीमत 100 प्रतिशत के करीब बढ़ी है।तेल की कीमत 110 प्रतिशत से अधिक है,जबकि चावल की कीमत 40 प्रतिशत के करीब है। चीनी की कीमत 35 प्रतिशत से अधिक है, और मटर की कीमत 30 फीसदी से ज्यादा बढ़ी है।संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अफगानिस्तान में लगभग 22.8 मिलियन लोग खाद्य असुरक्षा का सामना कर रहे हैं और वे किफायती या पौष्टिक भोजन प्राप्त करने में असमर्थ हैं। अफगानिस्तान में रहने वाले 38 मिलियन लोगों में से लगभग 14 मिलियन बच्चे खाद्य असुरक्षित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here