चीनी का पुराना स्टाक बेचने की इजाजत मिल जाए तो गन्ना भुगतान में होगी आसानी: सिंभावली मिल

831

गाजियाबाद: सिंभावली मिल द्वारा गन्ना किसानों का लगभग 250 करोड़ का भुगतान बकाया है, और किसानों के कई कोशिशों के बावजूद मिल प्रबंधन भुगतान करने में नाकाम साबित हुआ है। बकाया भुगतान को लेकर किसानों में काफी आक्रोश है, और भुगतान में देरी के कारण अब राजनीती भी गरमा गई है। अमरोहा-गढ़मुक्तेश्वर लोकसभा क्षेत्र से बसपा के सांसद कुंवर दानिश अली ने केन्द्र और प्रदेश सरकार से मांग की है कि सिंभावली मिल के पुराने स्टाक 5.28 लाख क्विंटल चीनी खरीदकर किसानों को पिछले सीजन के बकाया गन्ना मूल्य करीब 250 करोड़ का भुगतान कराए।

सिंभावली चीनी मिल ने पिछले सीजन में 484.74 करोड़ का गन्ना खरीदा जिसमें से अब तक 243.14 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया गया। मिल को पिछले सीजन का बकाया 250.59 करोड़ का भुगतान करना बाकी है। केन्द्र सरकार द्वारा जारी कोटे के अनुसार ही चीनी की बिक्री खुले बाजार में की जाती है। खबर के मुताबिक मिल के पास करीब 5.28 लाख क्विंटल चीनी का स्टाक इस माह तक शेष है। धीमी बिक्री से मिल द्वारा गन्ना किसानों का भुगतान होना कठिन है, इसलिए मिल को ज्यादा से ज्यादा चीनी बिक्री की छुट देने की मांग की जा रही है। अली ने बताया कि, जब किसान नेता मिल पर जाकर गन्ना के बकाया 250 करोड़ के तत्काल भुगतान की मांग करते हैं तो मिल प्रबंधन के अधिकारी चीनी की बिक्री पर रोक की बात करने लगते हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here