उत्तर प्रदेश: सहकारी चीनी मिलों में तकनीकी सुधार से मिला सकरात्मक परिणाम

1115

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सहकारी चीनी मिलों में किए गए तकनीकी सुधार का सकरात्मक परिणाम नजर आ रहा हैं। जिसके कारण चीनी उत्पादन में बढ़ोतरी देखि जा रही है और साथ ही साथ चीनी रिकवरी में भी वृद्धि हुआ है।

लाइव हिन्दुतान में प्रकाशित खबर के मुताबिक, गन्ना विकास व चीनी उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव संजय भूसरेड्डी ने बताया कि, सहकारी चीनी मिलों में किये गये तकनीकी सुधारों की वजह से इस बार ज्यादा गन्ने की पेराई की गई है। बेलरायां चीनी मिल में सात प्रतिशत क्षमता वृद्धि प्राप्त कर लगभग एक प्रतिशत चीनी परता की वृद्धि हुई। इसी तरह नानपारा चीनी मिल ने सात प्रतिशत क्षमता वृद्धि प्राप्त कर, 102 प्रतिशत क्षमता का उपयोग किया।

अगर चीनी रिकवरी की बात करे तो, पेराई सत्र 2019-20 में सहकारी मिलों द्वारा औसत 10.21 प्रतिशत चीनी रिकवरी प्राप्त किया गया जबकि पिछले सीजन चीनी रिकवरी 9.93 प्रतिशत था।

आपको बता दे, इस सीजन में उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों ने रिकॉर्ड चीनी उत्पादन किया है।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

2 COMMENTS

  1. सरजू सहकारी फैक्ट्री बेलरायां
    लखीमपुर खीरी का पेमेंट 3 महीने से नहीं हुआ है कृपया हम लोगों का पेमेंट मिल वाइए जो हम लोगों का हक है 3 महीने हो चुके हैं हम लोगों ने सारा गन्ना मिल को दिया है अभी तक और एक भी पैसे का 3 महीने से पेमेंट नहीं हुआ है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here