प्रियंका गांधी का आरोप उत्तर प्रदेश सरकार ने गन्ना किसानों को दिया धोखा

317

लखनऊ: कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने राज्य सरकार पर गन्ना किसानों के साथ छल करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की योगी सरकार मौजूदा पेराई सत्र शुरू होने के करीब 3 महीने बाद भी पिछले पेराई सत्र के बकाये का ही भुगतान नहीं करा पायी, जबकि इसे 14 दिन के भीतर गन्ने का भुगतान कराने का वादा किया था। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव ने इसे सरकार द्वारा राज्य के गन्ना किसानों के साथ किया गया सबसे बड़ा धोखा करार दिया।

प्रियंका गांधी ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्वीटर पर लिखा है, ‘उप्र के गन्ना किसानों को भाजपा ने सबसे बड़ा झांसा दिया है। एक तरफ गन्ना किसानों का भुगतान नहीं किया जा रहा, दूसरी तरफ उनसे वादा करके भी गन्ने का दाम नहीं बढ़ाया जा रहा है। मैंने गन्ने का मूल्य बढ़ाने के लिए पत्र लिखा था, उसका भी कोई जवाब नहीं आया।’ प्रियंका ने ट्वीट के साथ मेरठ-सहारनपुर मंडल की चीनी मिलों पर करीब 1500 करोड रुपये बकाया होने के आंकडे भी शेयर किए हैं, जिसमें यूपी के गन्ना मंत्री सुरेश राणा के जिले शामली सहित मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, बुलंदशहर, हापुड़, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर के हजारों गन्ना किसानों का सैकड़ों करोड़ रुपया बकाया होने की बात कही गई है।

बता दें कि प्रियंका ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा था, जिसमें पिछले दो पेराई सत्रों से गन्ने का मूल्य 1 रुपया भी न बढने पर आश्चर्य जताया गया था तथा मौजूदा शासन में खाद, बिजली और निराई-गुड़ाई की मजदूरी बढ़ जाने के साथ ही गन्ना किसानों का हजारों करोड़ रूपया बकाया होने का जिक्र भी किया गया था। प्रियंका ने पत्र में लिखा था, ‘उत्तर प्रदेश का किसान संकट की घड़ी में है, उसे उसकी लागत भी नहीं मिल पा रही है। किसानों के दर्द और उनके संघर्ष को समझते हुए आपकी सरकार का कर्तव्य बनता है कि उन्हे उनकी फसलों के सही दाम दिए जाएं। मुझे आशा है कि आप इस दिशा में सार्थक कदम उठायेंगे।’

इस बीच, प्रियंका के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि बीते 33 माह में योगी सरकार ने 82,762 करोड़ का ऐतिहासिक भुगतान किया है। प्रियंका गांधी के सलाहकार उन्हें गलत जानकारी देते हैं तथा वह गन्ना किसानों की हकीकत से वाकिफ नहीं हैं।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here