चीनी मिल की संपत्तियों की होगी नीलामी

863

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

कोल्हापुर: चीनी मंडी

सतारा जिले की एक निजी चीनी मिल न्यू फलटन शुगर वर्क्स लिमिटेड गन्ना किसानों के एक साल से अधिक के गन्ना बकाया को क्लियर करने में विफल रही है। इसकि उन्हें महंगी कीमत चुकानी पड सकती है। जिला कलेक्टर ने 30 मार्च को चीनी मिल के स्वामित्व वाली चल और अचल संपत्तियों की नीलामी करने की प्रक्रिया शुरू की है। राजस्व वसूली अधिनियम के तहत यह प्रक्रिया शुरू की गई है।

विभागीय गन्ना अधिकारी संतोष जाधव ने कहा कि, चीनी मिल ने एक साल से किसानों को कोई भुगतान नहीं किया है और शुरू सीझन के लिए भी पेराई शुरू नहीं की है। चीनी आयुक्त कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि, मिल का कुल बकाया लगभग लगभग 4,000 करोड़ हुआ है। इसी के चलते स्वाभिमानी शेतकरी संगठन ने चीनी मिल के बाहर आंदोलन छेड़ दिया है। चीनी आयुक्त शेखर गायकवाड़ ने इस साल जनवरी में सभी जिला कलेक्टरों को आदेश जारी किया था कि, वे चीनी मिलों को बंद कर दें या चीनी मिलों की चल-अचल संपत्ति जब्त कर लें, जिन्होंने किसानों को भुगतान नहीं किया है।

चीनी मिलों को पेराई के लिए 15 दिनों के भीतर उचित और पारिश्रमिक मूल्य (एफआरपी) के आधार पर भुगतान करने की उम्मीद है। न्यू फलटन शुगर वर्क्स ने पिछले 2017-18 पेराई सत्र के लिए किसानों को कोई भुगतान नहीं किया। चीनी अधिकारी अब इस चीनी मिल के चल और अचल संपत्तियों का ब्योरा ले रहे  है, ताकी नीलामी करने की प्रक्रिया जल्द से जल्द शुरू हो सके। नीलामी से तकरीबन १३४ करोड मिलने का अनुमान लगाया जा रहा है।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp  

SOURCEChiniMandi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here