पंजाब: लाल सड़न रोग से गन्ना फसल के नुकसान का आकलन करने के लिए सर्वेक्षण की मांग की

144

चंडीगढ़: पंजाब के गन्ना किसान लाल सड़न रोग से परेशान है, और इससे किसानों को काफी नुकसान हो रहा है। गुरदासपुर और जालंधर जिले के गन्ना किसान इससे बुरी तरह प्रभावित हुए है। सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने बुधवार को गुरदासपुर और जालंधर के जिला प्रशासनों को लाल सड़न रोग (रेड रोट फंगस) रोग से गन्ने की फसल को हुए नुकसान का आकलन करने के लिए सर्वे करने को कहा।

रंधावा ने सहकारिता विभाग को इस मामले में एक प्रभावी कार्य योजना तैयार करने के लिए कहा। इस बीमारी के फैलने के बाद उभरी मौजूदा स्थिति की समीक्षा के लिए एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए मंत्री रंधावा ने उपायुक्तों को पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, गन्ना आयुक्त और अन्य के साथ मिलकर काम करने का निर्देश दिया, ताकि इस बीमारी से बचाव के तरीके और साधन खोजे जा सकें। रंधावा ने गन्ने पर फंगस के अचानक हमले के कारणों की खोज के लिए अनुसंधान को तेज करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने अधिकारियों से रोग से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए हॉटस्पॉट क्षेत्रों की पहचान करने को कहा।इस बीमारी ने पहले ही उत्तर प्रदेश और हरियाणा में गन्ने की फसल को जलभराव की समस्या के कारण प्रभावित किया है।गन्ने की ‘Co 0238’ किस्म मुख्य रूप से इस कवक से ग्रसित थी।

2 COMMENTS

  1. मैं आमिर अब्बास ग्राम शंकरपुर हैरिग्टनगज बीकापुर अयोध्या से हूं मेरा गन्ना लाल सड़न रोग से बेकार हो गया मेरा गांव का कोड हैं 224208 और मेरा गन्ना अयोध्या के मसौधा मिल में जाता है मेरा कोड हैं 11472/111

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here