पंजाब: लंबित भुगतान से परेशान गन्ना किसान ने की फसल नष्ट…

51

संगरूर: जिले के हथन गांव में भुगतान नहीं होने से तंग आकर एक किसान ने सोमवार को अपनी 4 एकड़ गन्ने की फसल नष्ट कर दी। उन्होंने आरोप लगाया कि, उन्हें धुरी चीनी मिल से उनका भुगतान नहीं मिला है। लंबित भुगतान से परेशान कई किसानों ने गन्ने की फसल से दुरी बनाई है। जिले में गन्ने का रकबा 2017 में लगभग 15,000 एकड़ था, जो अब घटकर वर्तमान में 6,000 एकड़ हो गया है। हथन गांव के कमलजीत सिंह ने कहा, तीन साल पहले तक, मैं 20 एकड़ से अधिक में गन्ने की बुवाई कर रहा था, लेकिन इस साल, मैंने केवल 4 एकड़ फसल की थी। मुझे अपनी पूरी फसल नष्ट के लिए मजबूर किया गया है। अगर सचमुच पंजाब सरकार फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने के लिए गंभीर है, तो उसे समय पर हमारा भुगतान जारी करना चाहिए।

कई अन्य गन्ना उत्पादकों की भी ऐसी ही समस्या है, उन्होंने कहा कि वे भी अपनी फसल की जुताई करने की योजना बना रहे हैं। कई लोगों ने कहा कि, उन्होंने धान की रोपाई फिर से शुरू करने का फैसला किया है, जो गन्ने की तुलना में कम मेहनत के साथ सुनिश्चित आय देता है। गन्ना उत्पादक संघर्ष समिति के एक नेता अवतार सिंह तारी ने कहा, कुछ साल पहले तक हमारा परिवार 30 से 35 एकड़ में गन्ने की बुवाई करता था, लेकिन अब मेरे पास 3 एकड़ में ही फसल है। हर साल, हमें अपने भुगतान के लिए एक आंदोलन करना पड़ता है और आज तक, कई किसान धूरी चीनी मिल अधिकारियों से लगभग 4.67 करोड़ रुपये जारी होने का इंतजार कर रहे हैं। संगरूर के मुख्य कृषि अधिकारी जसविंदरपाल सिंह ग्रेवाल ने कहा, जिले में गन्ने का रकबा कम होता जा रहा है। हम गन्ना उत्पादकों का 4.67 करोड़ रुपये का बकाया जल्द से जल्द जारी करने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here