महाराष्ट्र में रिकॉर्ड गन्ना पेराई

317

कोल्हापुर: कोविड -19 के कारण राज्य भर में सभी आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई हैं, फिर भी राज्य में चीनी मिलों ने 1,000 लाख टन से अधिक गन्ने की पेराई करके और मौजूदा पेराई मौसम के दौरान 1,000 लाख क्विंटल से अधिक चीनी का उत्पादन करके एक नया रिकॉर्ड बनाया है।

चीनी आयुक्त कार्यालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में 1006.90 लाख टन गन्ने की पेराई की गई और मिलों ने 29 अप्रैल तक 1055.99 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है।

हालांकि, चीनी मिल संचालक चिंतित हैं क्योंकि बड़े पैमाने पर अधिशेष स्टॉक है। उद्योग से जुड़े जानकारों का कहना है कि, चीनी का भारी उत्पादन मुख्य रूप से पिछले साल की संतोषजनक वर्षा के कारण हुआ है। चीनी आयुक्त कार्यालय के अधिकारियों ने कहा कि, महाराष्ट्र में लगभग 11 लाख हेक्टेयर भूमि पर गन्ने की खेती की जा रही है, जबकि पिछले साल यह 8 लाख हेक्टेयर थी।

पिछले एक दशक में सबसे अधिक गन्ने की पेराई 2018-19 में हुई थी,जब मिलों ने सामूहिक रूप से 953 लाख टन गन्ने की पेराई की और सबसे कम गन्ने की पेराई 2016-17 में हुई जब केवल 373 लाख टन गन्ने की पेराई हुई।

टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, 87 मिलों ने एफआरपी के आधार पर सभी बकाया राशि का भुगतान किया है। किसानों को भुगतान करने वाले मिलों की संख्या 101 है। मौजूदा पेराई सत्र के दौरान 48 मिलों ने किसानों को 80 से 99% भुगतान किया है।

राज्य में 23 चीनी मिले अभी भी चालू हैं जबकि शेष ने पेराई गतिविधियों को रोक दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here