भूना चीनी मिल को पुनर्जीवित करने की मांग

323

चंडीगढ़: ऐसे समय में जब हरियाणा सरकार बड़े पैमाने पर फसल विविधीकरण को बढ़ावा दे रही है, फतेहाबाद जिले के किसानों ने सरकार से अपील की है कि, अगर सरकार भूना चीनी मिल को पुनर्जीवित करने के लिए तैयार है, तो वे धान के स्थान पर गन्ने का रोपण करेंगे। फतेहाबाद जिले के रतिया ब्लॉक में, जल स्तर 40 मीटर से नीचे चला गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक किसान कार्यकर्ता बलबीर सिंह ने कहा की धान की तुलना में गन्ने को बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है। हम जल संरक्षण भी चाहते हैं। अगर हम गन्ने का विकल्प चुनते हैं, तो हम पाणी की बचत भी हो सकती है।

दो दिन पहले, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था, अब जब हमने धान की खेती के तहत क्षेत्र को कम करने के लिए कहा है, किसानों का कहना है कि अगर सरकार भूना चीनी मिल को शुरू करती है, तो वे धान छोड़कर गन्ने का रोपण करेंगे। हालांकि, मुख्यमंत्री ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा की, इनपुट लागत की तुलना में चीनी की कम कीमतों के कारण चीनी मिलों को नुकसान उठाना पड़ रहा है।अगर किसान भूना चीनी मिल के नुकसान और लाभों का सामना करने के लिए तैयार हैं, तो हम इसे कार्यात्मक बनाने के लिए तैयार हैं। किसान इसे वास्तविक सहकारी आधार पर चला सकते हैं।

मुख्यमंत्री खट्टर के अनुसार, पिछले कांग्रेस शासन के दौरान मिल को निजी हाथों में बेच दिया गया था, लेकिन वे इसे गन्ने की कमी के कारण नहीं चला सके थे क्योंकि किसानों ने गन्ने की जगह धान को चुना था।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here