वैश्विक कीमतों में तेजी: भारतीय मिलें निर्यात के लिए कच्ची चीनी बनाने के लिए तैयार

181

नई दिल्ली: चीनी की वैश्विक कीमतें 4 साल के उच्च स्तर पर जाने से विदेशों से कच्चे माल की मांग बढ़ने की संभावना को देखते हुए, भारतीय मिलें 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले नए विपणन सत्र की शुरुआत में कच्ची चीनी बनाने की योजना बना रही हैं। भारतीय मिलें पारंपरिक रूप से स्थानीय खपत के लिए सफेद चीनी का उत्पादन करती हैं और निर्यात के लिए थोड़ी मात्रा में कच्ची चीनी बनाती हैं। लेकिन दुनिया का शीर्ष चीनी उत्पादक और निर्यातक ब्राजील में गन्ने की फसल में सूखे और ठंड की मार के बाद दिसंबर तिमाही में विश्व बाजारों में संभावित आपूर्ति की तंगी ने भारतीय मिलों को विदेशों में बिक्री के लिए कच्ची चीनी के उत्पादन की योजना बनाने के लिए प्रेरित किया है।

मनी कण्ट्रोल डॉट कॉम में प्रकाशित खबर के मुताबिक, वेस्ट इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.बी. थोम्बरे ने कहा, हम कच्ची चीनी के साथ सीजन शुरू करने की योजना बना रहे हैं क्योंकि सफेद चीनी की तुलना में कच्ची चीनी निर्यात करना आसान है। कीमतें भी आकर्षक हैं और उनके स्थिर रहने की संभावना है।

भारत से चीनी निर्यात वैश्विक कीमतों को सीमित कर सकता है और एशिया में आपूर्ति को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है क्योंकि दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक ब्राजील में पिछले साल की तुलना में उत्पादन में काफी गिरावट होने की संभावना है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डीलरों ने कहा कि, मिलों ने नवंबर से जनवरी के बीच करीब 725,000 टन कच्ची चीनी और 75,000 टन सफेद चीनी का निर्यात करने का अनुबंध किया है।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here