दिसंबर 2014 के बाद से रुपये में लगभग 25 प्रतिशत की गिरावट: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

68

नई दिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, दिसंबर 2014 से अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये के मूल्य में लगभग 25 प्रतिशत की गिरावट आई है और हालिया गिरावट कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी और रूस – यूक्रेन संघर्ष, जैसे वैश्विक कारकों के कारण है। लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में वित्त मंत्री द्वारा उल्लिखित आंकड़ों के अनुसार, 31 दिसंबर, 2014 को एक अमेरिकी डॉलर की कीमत 63.33 भारतीय रुपये थी। 11 जुलाई, 2022 को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 79.41 पर आ गया। सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 79.98 के नए निचले स्तर पर पहुंच गया। भारतीय रुपये की कीमत में लगातार सातवें दिन गिरावट आई है।

लोकसभा में एक तारांकित प्रश्न के उत्तर में, सीतारमण ने कहा, रूस-यूक्रेन संघर्ष जैसे वैश्विक कारक, कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी और वैश्विक वित्तीय स्थितियों का कड़ा होना अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये के कमजोर होने के प्रमुख कारण हैं। हालांकि, उन्होंने सदन को सूचित किया कि भारतीय मुद्रा अन्य प्रमुख वैश्विक मुद्राओं के मुकाबले मजबूत हुई है। ब्रिटिश पाउंड, जापानी येन और यूरो जैसी मुद्राएं अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये की तुलना में अधिक कमजोर हुई हैं और इसलिए, भारतीय रुपया 2022 में इन मुद्राओं के मुकाबले मजबूत हुआ है। सरकार ने दावा किया कि, मुद्रा के मूल्यह्रास से निर्यात प्रतिस्पर्धात्मकता बढ़ने की संभावना है जो बदले में अर्थव्यवस्था को सकारात्मक रूप से प्रभावित करती है। मुद्रा का मूल्यह्रास आयात को और अधिक महंगा बनाकर प्रभावित करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here