इस चीनी मिल ने पिछले चार वर्षों से न तो चीनी आयात की और न ही निर्यात

266

पणजी: संजीवनी चीनी मिल को बंद करने के सरकार के प्रस्ताव के खिलाफ गन्ना किसानों के विरोध के बीच, राज्य सरकार ने कहा है कि मिल ने पिछले चार वर्षों से न तो चीनी का आयात किया है और न ही निर्यात।

इसके अलावा, राज्य स्तरीय परियोजना स्क्रीनिंग कमेटी ने मिल के आधुनिकीकरण के प्रस्ताव को अस्वीकृत कर दिया है।

गन्ना किसानों ने पिछले सप्ताह मिल बंद होने पर आठ दिनों के भीतर अपना रुख स्पष्ट करने के लिए सरकार को अल्टीमेटम दिया था, और जिसपर विफल रहने पर विरोध प्रदर्शन करने की धमकी दी थी।

चीनी मिल को गन्ने की अनुपलब्धता सहित कई मुद्दों के कारण 101.22 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। सरकार मिल को जारी रखने की व्यवहार्यता का अध्ययन करने के बाद मिल से संबंधित कोई भी निर्णय लेगी।

आपको बता दे, सरकार ने सुनिश्चित किया था कि किसानों द्वारा उत्पादित गन्ने को बाजार मूल्य पर खरीदा जाएगा। राज्य के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा था की , “इस सीजन में गन्ने का उत्पादन करने वालों को कोई नुकसान नहीं होगा। सरकार इन किसानों को समर्थन मूल्य प्रदान करने के अलावा, उनका गन्ना खरीदेगी और अन्य राज्यों में चीनी मिलों को आपूर्ति करेगी।”

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here