संजीवनी चीनी मिल की नजर एथेनॉल उत्पादन पर

79

पोंडा: लगभग पाच दशक पुरानी और पिछले कुछ सालों से घाटे में चल रही संजीवनी चीनी मिल को मुनाफे की पटरी पर लाने के लिए एथेनॉल उत्पादन पर विचार विमर्श किया जा रहा है। मिल के प्रशासक चिंतामणि बी पेर्नी ने डेक्कन शुगर टेक्नोलॉजिस्ट एसोसिएशन (पुणे) से एथेनॉल के उत्पादन के लिए एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने का अनुरोध करने के बाद यह योजना सामने आई।

पेर्नी ने कहा कि, प्रतिस्पर्धा बढ़ने से चीनी उत्पादन अब लाभदायक नहीं है। इसके विपरीत, एथेनॉल की भारी मांग है, यह पेट्रोलियम कंपनियों को राज्य के भीतर एथेनॉल प्राप्त करने में भी सक्षम करेगा। मिल में 40 केएलडी एथेनॉल उत्पादन इकाई स्थापित करने की योजना है। पेर्नी ने कहा, हम अक्टूबर से दिसंबर तक शुरुआती तीन महीनों के लिए स्थानीय गन्ने का उपयोग करने की योजना बना रहे हैं, फिर जनवरी से मार्च तक कर्नाटक से गन्ना और अगले तीन महीनों के लिए अप्रैल से जून तक शीरा का एथेनॉल उत्पादन करने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

व्हाट्सप्प पर चीनीमंडी के अपडेट्स प्राप्त करने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.
WhatsApp Group Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here