गोवा: चीनी बिक्री के लिए संजीवनी मिल का संघर्ष

241

पोंडा: पिछले साल की तरह, इस साल भी, संजीवनी चीनी मिल पिछले सीजन में उत्पादित 39,000 क्विंटल चीनी बेचने के लिए संघर्ष कर रही है, जो गोदामों में बिना बिके पड़ी है। खबरों के मुताबिक, हाल की बोलियों में चीनी के लिए केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम बिक्री मुल्य (एमएसपी) 31 रुपये प्रति किलोग्राम से नीचे की बोलिंया लगी थी। मिल ने अब कम दर पर चीनी बेचने के लिए सरकार से मंजूरी मांगी है।

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, 2018-19 के अंतिम गन्ना पेराई सत्र के दौरान, मिल ने लगभग 52,838 टन गन्ने की पेराई की थी और लगभग 41,000 क्विंटल चीनी का उत्पादन किया था। लगभग 2,000 क्विंटल चीनी नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा खरीदी गई थी और शेष 39,000 क्विंटल चीनी बिना बिके पड़ी है।

देश भर के सभी गन्ना मिलों को केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार, संजीवनी मिल ने भी निविदा जारी की थी, लेकिन बोली में दर सरकारी दर से कम थी। पिछले साल भी, मिल प्रबंधन 2017-18 सीज़न में उत्पादित चीनी को बेचने में विफल रहा था और उसने 58,336 क्विंटल चीनी का उत्पादन किया था, जिसकी कीमत लगभग 15- 16 करोड़ रुपये थी। उसी के भंडारण में कठिनाई को देखते हुए, मिल ने सरकार से मान्यता के साथ चीनी को 28 रुपये प्रति किलोग्राम पर बेचा था जो कि 31 रुपये प्रति किलोग्राम न्यूनतम बिक्री मूल्य (एमएसपी) दर से नीचे थी।

यह न्यूज़ सुनने के लिए प्ले बटन को दबाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here