संत एकनाथ चीनी मिल को की जा रही है बंद कराने की कोशिश : अध्यक्ष सचिन घायाल

853

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

पुणे : चीनीमंडी

संत एकनाथ चीनी मिल के अध्यक्ष सचिन घायाल ने आरोप लगाया की, पैठण तालुका के कुछ किसानविरोधी लोगों ने पिछले एक साल से संत एकनाथ चीनी मिल को बंद करने की कोशिश की है, लेकिन हम ईमानदारी से मिल चला रहे हैं, और इस साल, हमने 2 लाख टन गन्ना पेराई के साथ कुल 44 करोड़ एफआरपी से लगभग 42 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।

चीनी कमिश्नर ने बकाया एफआरपी भुगतान के लिए ‘संत एकनाथ’ की संपत्ति जब्त करने का आदेश दिया था। इस पृष्ठभूमि पर, कंपनी के अध्यक्ष, घायाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी। उन्होंने कहा, इस साल मिल ने दो लाख दो हजार टन गन्ने की पेराई की। इसमें से 9.88 प्रतिशत औसत रिकवरी के साथ एक लाख 99 हजार क्विंटल चीनी का उत्पादन किया गया है। एफआरपी के अनुसार, मिल को किसानों को 44 करोड़ एक लाख रुपये देने थे। इनमें से मिल ने किसानों को एफआरपी के लिए 41.86 करोड़ रुपये दिए हैं। इस सप्ताह ‘एफआरपी’ के शेष दो करोड़ रुपये आवंटित किए जा रहे हैं। घायाल ने दावा किया की, विपरीत परिस्थितियों में ‘संत एकनाथ’ को चलाने के दौरान, तालुका के कुछ किसानविरोधी लोग मिल को बंद करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि, हम किसी भी स्थिति में इस मिल को 18 साल तक चलाएंगे, मिल की पेराई क्षमता बढ़ाने के लिए चार करोड़ रुपये खर्च करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here