राजू शेट्टी को चीनी मिल की तरफ जाने से रोका गया, किसानों ने किया प्रदर्शन

186

सातारा : स्वाभिमानी शेतकरी संघठन के संस्थापक और पूर्व सांसद राजू शेट्टी को पुलिस द्वारा सह्याद्री सहकारी चीनी मिल की तरफ जाने से रोकने के बाद किसानों ने कराड में सरकारी विश्राम गृह के बाहर विरोध प्रदर्शन किया गया। शेट्टी ने घोषणा की थी कि, गन्ना बकाया भुगतान मामले में वह सह्याद्री मिल के बाहर अनिश्चितकालीन धरना शुरू करेंगे। गुरुवार को संगठन के कार्यकर्ताओं को सातारा पुलिस ने मिल स्थल पर जाने से रोका। दोपहर 12 बजे के आसपास, जब शेट्टी ने मिल की ओर जाना शुरू किया, तो उन्हें पुणे-बेंगलुरु राजमार्ग पर पुलिस ने रोक दिया। पूर्व सांसद को बाद में कराड के सरकारी विश्राम गृह में स्थानांतरित कर दिया गया, जहाँ उनसे संगठन की मांगों पर चर्चा की गई। किसान संगठन के सदस्य ने अपने नेता की नजरबंदी के खिलाफ रेस्ट हाउस के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

महाराष्ट्र में चीनी मिलों ने किसानों से 828.27 लाख टन गन्ने की खरीद की, जिसके लिए उन्हें सरकार द्वारा घोषित फेयर एंड रेमुनरेटिव प्राइस (FRP) के रूप में 18,221.50 करोड़ रुपये का भुगतान करना है। हालांकि, अब तक मिलों ने 15,850.62 करोड़ रुपये का भुगतान किया है, और लगभग 2,385.06 करोड़ रुपये का बकाया है। इस सीजन में जिन 187 मिलों ने अपना परिचालन शुरू किया है, उनमें से 97 ने एफआरपी के भुगतान के लिए किसानों के साथ समझौता किया है। शेट्टी, जिनकी राजनीति पारंपरिक रूप से गन्ना और किसान को भुगतान के इर्द-गिर्द घूमती रही, उन्होंने मिलों के किश्तों में एफआरपी का भुगतान करने के फैसले का विरोध किया। मौजूदा पेराई सत्र की शुरुआत से पहले, शेट्टी ने एकमुश्त एफआरपी भुगतान और सीजन समाप्त होने के बाद 200 रूपये देने की मांग की थी ।शेट्टी ने पहले घोषणा की थी कि, वह इसके खिलाफ सह्याद्री मिल के बाहर अनिश्चितकालीन विरोध शुरू करेंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here