महाराष्ट्र में अब तक हुआ 105.43 लाख टन चीनी का उत्पादन

151

मुंबई: महाराष्ट्र इस सीजन में चीनी उत्पादन के रिकार्ड बनाने के कगार पर है। इस चीनी सीजन में, 95 निजी और 95 सहकारी मिलों सहित 190 चीनी मिलों ने 1005.47 लाख टन गन्ने की पेराई की है। इससे पहले 2017-18 सत्र में लगभग 954 लाख टन गन्ने की पेराई की गई थी। राज्य में मिलों ने 1054.30 लाख क्विंटल (105.43 लाख टन) चीनी का उत्पादन किया है, और 28 चीनी मिलें अभी भी परिचालन जारी रखे हुए हैं।

कोल्हापुर और पुणे क्षेत्र राज्य में चीनी उत्पदान चार्ट में आगे हैं। राज्य के चीनी बेल्ट के रूप में माने जाने वाले इन दोनों क्षेत्रों ने महाराष्ट्र में उत्पादित कुल चीनी का 50 प्रतिशत उत्पादन करने के लिए 46 प्रतिशत गन्ने की पेराई की है। औरंगाबाद, नांदेड़, अमरावती और नागपुर के सूखाग्रस्त क्षेत्रों ने 197 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है, जो कि कुल राज्य चीनी उत्पादन का 19 प्रतिशत है। कुल 53 मिलों ने इन सूखाग्रस्त क्षेत्रों में पेराई कार्य शुरू कर दिया था। जो मिलें अभी भी चालू हैं उनमें से 10 अहमदनगर क्षेत्र में और 11 औरंगाबाद क्षेत्र में हैं।

राज्य में मिलर्स बड़े पैमाने पर चीनी स्टॉक के लिए उपलब्ध बाजारों के बारे में अनिश्चित हैं। केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे ने हाल ही में कहा कि चीनी के अधिशेष स्टॉक को खाली करने के लिए, सरकार ने वर्तमान चीनी मौसम के दौरान निर्यात के लिए 60 लाख टन का मिल-वाइज निर्यात कोटा आवंटित किया है। इसके अलावा, सरकार चीनी मिलों को गन्ने के रस, चीनी, चीनी सिरप और बी-हेवी मोलासेस से इथेनॉल का उत्पादन करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है ताकि अतिरिक्त चीनी को कम किया जा सके। सरकार ने चीनी मिलों को अतिरिक्त चीनी की मात्रा कम करने के लिए मिलो को प्रोत्साहित किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here