केंद्र की सॉफ्ट लोन योजना मिलों की मदद करने में विफल?

0
742

 

यह न्यूज़ सुनने के लिए इमेज के निचे के बटन को दबाये

मुंबई: चीनी मंडी

वित्तीय संकट से गुजर रही चीनी मिलों के लिए 2,500 करोड़ रुपये की सॉफ्ट लोन योजना है, जिसका उद्देश्य मिलों को किसानों का गन्ना बकाया चुकाने में मदद करना है। इस प्रक्रिया में कुछ बुनियादी बाधाओं के कारण बहुत सारी मिलें लोन पाने में विफल रही हैं, जबकि राज्य में 110 मिलें सॉफ्ट लोन के लिए पात्र हैं, लेकिन अभी तक किसी भी मिल को पैसे आवंटित नहीं किये गये है।

किसानों का गन्ना भुगतान करने के लिए ऋण…

केंद्र सरकार द्वारा फरवरी में घोषित की गई योजना से मिलों को एक वर्ष के लिए 7-10 प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण प्राप्त करने की अनुमति मिली है। यह ऋण चीनी मिलों को गन्ना किसानों का बकाया चुकाने में मदद करने के लिए है, जो इस वक्त हजारों करोड़ों में चला गया है। चीनी की कम कीमत और तरलता की कमी के कारण मार्च 2019 के अंत तक राज्य में मिलों पर गन्ना किसानों का 4,600 करोड़ रुपये बकाया है।

महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक ऋण देने की स्थिति में नहीं…

चीनी आयुक्तालय के अधिकारियों के अनुसार, राज्य की शीर्ष सहकारी बैंक, महाराष्ट्र राज्य सहकारी (MSC) बैंक,  मिलों को और अधिक ऋण देने की स्थिति में नहीं है क्योंकि इसने पहले ही इस क्षेत्र के लिए कई ‘ऋण’ बढ़ा दिया है। मिलों ने सहकारी बैंकों को अपने चीनी स्टॉक गिरवी रखा है क्रेडिट लेने के लिए, जिसका उपयोग वे गन्ना उत्पादकों को भुगतान करने के साथ-साथ अन्य खर्चों जैसे कि कर्मचारियों के वेतन और गनी बैग जैसी आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए करते हैं।

कई मिलों ने अपनी क्रेडिट सीमा भी कर दी खत्म…

चीनी आयुक्त के एक अधिकारी ने बताया की, बैंक चाहे तो भी मिलों को अधिक ऋण नहीं दे सकेगा। कई मिलों ने अपनी क्रेडिट सीमा भी खत्म कर दी है और अधिक ऋण के लिए पात्र नहीं होंगे। जबकि राष्ट्रीय बैंक चीनी मिलों को ऋण देने की बेहतर स्थिति में हैं, लेकिन वे इस क्षेत्र को संकट को देखते हुए अनिच्छुक हैं। महाराष्ट्र राज्य सहकारी चीनी फैक्ट्री फेडरेशन के प्रबंध निदेशक संजय खताल ने खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग को एक पत्र भेजा है। पत्र में, खताल ने ऋण मानदंडों में छूट मांगी है ताकि मिलें आगे क्रेडिट का लाभ उठा सकें।

डाउनलोड करे चीनीमंडी न्यूज ऐप:  http://bit.ly/ChiniMandiApp

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here