श्रीलंका दिवालिया होने की कगार पर…

68

कोलंबो : श्रीलंका एक गहरा वित्तीय और मानवीय संकट का सामना कर रहा है।मुद्रास्फीति रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ने के कारण देश को 2022 में दिवालिया होने की कगार पर है।इससे पहले, पिछले साल 30 अगस्त को, श्रीलंका सरकार ने देश की मुद्रा के मूल्य में भारी गिरावट के बाद राष्ट्रीय वित्तीय आपातकाल की घोषणा की, जिससे खाद्य कीमतों में भारी भरकम वृद्धि हुई।

श्रीलंका पिछले दशक से राजकोषीय घाटे और व्यापार घाटे का सामना कर रहा है। 2014 के बाद से, श्रीलंका का विदेशी ऋण स्तर लगातार बढ़ रहा है और 2019 में सकल घरेलू उत्पाद का 42.6 प्रतिशत तक पहुंच गया है।2019 में देश का कुल विदेशी कर्ज 33 अरब अमेरिकी डॉलर था।स्टैंडर्ड एंड पूअर्स, मूडीज और फिच सहित कई क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों ने श्रीलंका की क्रेडिट रेटिंग को सी से घटाकर बी कर दिया, जिससे अंतर्राष्ट्रीय सॉवरेन बॉन्ड (आईएसबी) के माध्यम से धन प्राप्त करना मुश्किल हो गया है।

श्रीलंका के लिए सबसे अधिक दबाव वाली समस्याओं में से एक है, चीन का विशाल ऋण का बोझ।श्रीलंका पर चीन का 5 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक का कर्ज है और पिछले साल उसने बीजिंग से 1 अरब अमेरिकी डॉलर का अतिरिक्त कर्ज लिया है।जनवरी 2022 तक देश का विदेशी मुद्रा भंडार पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा और श्रीलंका को आवश्यक भुगतान के लिए कम से कम 437 मिलियन अमेरिकी डॉलर उधार लेने की आवश्यकता होगी। देश के सामने अब बड़ी समस्या यह है कि फरवरी-अक्टूबर 2022 के दौरान 4.8 बिलियन अमरीकी डालर की विदेशी ऋण चुकाने का प्रबंधन कैसे किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here