चीनी रिकवरी में गिरावट मिलों के लिए एक प्रमुख चुनौती

246

मुंबई : चीनी मंडी चीनी की कीमतों में वृद्धि के बावजूद, मिलों को डर है कि, रिकवरी में गिरावट उनके मुनाफे को प्रभावित कर सकती है और जिससे उनकी गन्ना भुगतान क्षमताओं में भी बाधा आ सकती है। हालांकि, पिछले कुछ दिनों में चीनी की कीमतों में मामूली वृद्धि से उद्योग में ख़ुशी का माहोल है, लेकिन रिकवरी में तेज गिरावट मिलों के लिए चुनौती बनी हुई है।

चीनी की कीमतों में वृद्धि के बावजूद, मिलों को डर है कि रिकवरी में गिरावट के कारण उनके लाभ मार्जिन प्रभावित हो सकते है और जिससे उन्हें गन्ना भुगतान चुकाने में दिक्कतें आ सकती है।

एक चीनी मिल समूह के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा की, अधिकांश बड़ी चीनी मिलों ने पिछले साल के अपने गन्ना बकाया का भुगतान किया है और मौजूदा सीजन के लिए मुख्य रूप से इथेनॉल की बिक्री और निर्यात सब्सिडी के माध्यम से अर्जित आय से किया है। हालांकि चीनी की रिकवरी में गिरावट इस साल चीनी उद्योग के लिए चुनौती बनी हुई है।

ISMA के मुताबिक, सत्र की शुरुआत से और 31 दिसंबर, 2019 तक, महाराष्ट्र में औसत चीनी की रिकवरी 10 प्रतिशत के बराबर है, जबकि 2018-19 की इसी अवधि के लिए प्राप्त 10.5 प्रतिशत थी। ऐसा इसलिए है क्योंकि पेराई में बाढ़ प्रभावित गन्ना भी शामिल है, जिसमे सुक्रोज की मात्रा कम हो गई है क्यूंकि यह बाढ़ के कारण कुछ समय तक जलमग्न था।

कर्नाटक में 63 चीनी मिलों ने 31 दिसंबर, 2019 तक 16.33 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया है, इसके विपरीत पिछले साल समान अवधि में यहां 65 चीनी मिलों ने 21.03 लाख टन चीनी का उत्‍पादन किया था। राज्य में बाढ़ से गन्ना उत्पादन और गुणवत्ता पर भारी असर पड़ा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here