लॉकडाउन: मिलों के गोदामों में बढ़ रहा है चीनी स्टॉक

252

लखनऊ : चीनी मंडी

लॉकडाउन के कारण मिलें बाजार में चीनी बेचने के लिए संघर्ष कर रही हैं, जिससे गोदामों में चीनी का स्टॉक बढ़ता ही जा रहा है, वही दूसरी ओर गन्ना किसानों की समस्याएं भी जल्द खत्म होती नही दिख रही है। देश के दो बड़े चीनी उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में लॉकडाउन का बुरा असर पडा है। यूपी शुगर मिल्स एसोसिएशन (UPSMA) के अनुसार, राज्य की 119 मिलों के पास गन्ना किसानों का जो 13 अप्रैल तक लगभग 12,078 करोड़ रुपये बकाया है, और यह आंकड़ा हर रोज़ बढ़ रहा है क्योंकि पेराई सत्र अभी शुरू चालू है। चीनी उद्योग के विशेषज्ञों का कहना है कि, मिलों के गोदाम में भारी मात्रा में चीनी स्टॉक होने के कारण बकाया राशि के भुगतान में वृद्धि होगी।

UPSMA के महासचिव दीपक गुप्तारा ने कहा, हमारे चीनी उत्पादन में से लगभग 70% घरेलू बिक्री होती है और चूंकि लॉकडाउन लागू है, इसलिए मांग बिल्कुल ठप हुई है। वैश्विक संकट के कारण निर्यात में भी कमी आई है। मिलरों पर भारी दबाव है, क्योंकि उन्होंने अपनी कार्यशील पूंजी को लगभग समाप्त कर दिया है। हमें डर है कि मौजूदा संकट भुगतान तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। और तो और यूपी पावर कॉरपोरेशन ने भी चीनी उद्योग को को-जनरेशन बकाया का भुगतान नहीं किया है। उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीपीसीएल) को लिखे पत्र में, UPSMA ने बकाया राशि को तत्काल भुगतान करने का आग्रह किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here