पराली संकट: पानीपत, कैथल की एथेनॉल, बायोगैस परियोजना हो सकती है गेम-चेंजर…

65

करनाल: हरियाणा पराली जलाने से निपटने के लिए कड़ा संघर्ष कर रहा है और पानीपत में निर्माणाधीन एक एथेनॉल प्लांट और कैथल के कैलरम गांव में प्रस्तावित एक कंप्रेस्ड बायोगैस प्लांट को पराली के प्रबंधन में एक गेम-चेंजर के रूप में देखा जा रहा है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि, यह परियोजना किसानों को पराली जलाने से हतोत्साहित करने और स्वच्छ ईंधन उत्पादन को प्रोत्साहित करने में मददगार साबित होगी। इस साल, हरियाणा में पराली जलाने के कम मामले सामने आए हैं। आंकड़ों से पता चलता है कि राज्य में इस साल 15 सितंबर से 16 नवंबर तक 5,993 सक्रिय आग के स्थान देखे गए। पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान यह संख्या 9,040 थी।

ट्रिब्यून इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, उप निदेशक, कृषि (डीडीए) करम चंद ने कहा की, वर्तमान में कस्टम हायरिंग सेंटर किसानों से पराली एकत्र करते हैं और गांठ बनाकर उद्योगों को बेचते हैं। किसानों को 160 रुपये प्रति क्विंटल मिलता है। एक बार जब यह दो प्लांट काम करना शुरू कर देंगे, तो किसानों और कस्टम हायरिंग केंद्रों को पराली के लिए उच्च मूल्य मिलेगा। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) का एथेनॉल प्लांट अप्रैल 2022 में प्रसंस्करण शुरू करेगा। जबकि बायोगैस प्लांट के लिए, भूमि अधिग्रहण हुआ है, और जल्द ही निर्माण शुरू होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here